ताजा खबरें
Loading...

अनमोल विचार

सर्वाधिक पड़े गए लेख

Subscribe Email

नए लेख आपके ईमेल पर


जानिए 24 जनवरी 2020 को कैसे होगा दूर सभी राशियों से शनि का प्रकोप

हिंदू धर्म में हर ग्रह का अपना एक अलग स्थान है. इन्ही ग्रहों के आधार पर यहाँ भविष्यवाणीयाँ की जाती है l समय समय पर इन ग्रहों का प्रभाव हमारे सांसारिक जीवन पर बहुत ही महत्वपूर्ण होता है l और इन सब में भी शनि की साढ़ेसाती का प्रभाव तो बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है इसीलियें हमारे ज्योतिषाचार्य पंडित दयानन्द जी शास्त्री ने आप सभी के लिए शनि की साढेसाती का प्रभाव किन-किन राशियों पर कब-कब होगा यहाँ बताया है. आप सभी यह महत्वपूर्ण जानकारी आप तक व अन्य लोगों तक जरुर पहुंचाएं.
Know-how-far-Saturn-will-get-out-of-all-zodiac-signs-on-24-January-2020- जानिए 24 जनवरी 2020 को कैसे होगा दूर सभी राशियों से शनि का प्रकोपवैदिक ज्योतिष शास्त्र में ग्रह गोचर का विशेष महत्व होता है। जब कोई ग्रह एक राशि को छोड़कर दूसरी राशि में स्थान परिवर्तन करता है तो उसका प्रभाव सभी राशियों पर पड़ता है। अगले वर्ष की शुरुआत ( 2020) में ग्रहों की स्थितियों में कई बड़े फेरबदल होने वाले हैं। वर्ष 2020 के शुरूआती दिनों में ही शनि अपनी राशि बदलेंगे। शनि 24 जनवरी 2020 को धनु राशि को छोड़कर मकर राशि में प्रवेश करेंगे। शनि के राशि परिवर्तन से अगले वर्ष 2020 में किन राशियों से शनि की अशुभ छाया हट जाएगी और किन राशि पर इनका प्रकोप रहेगा।
    शनि के गोचर, साढ़ेसाती और महादशा का हमारे जीवन में बहुत महत्व होता है, क्योंकि इसके प्रभाव से मनुष्य के जीवन में बड़े बदलाव होते हैं, जैसे शादी , नौकरी, व्यवसाय, संतान आदि। हालांकि ये परिवर्तन सुखद और दुखद दोनों हो सकते हैं। शनि देव बुध, शुक्र और राहु के साथ मित्रता रखते हैं तो सूर्य, चंद्रमा और मंगल के साथ इनका संबंध शत्रुता का है। बृहस्पति और केतु के साथ इनका संबंध सम रहता है। मकर तथा कुंभ राशियों के ये स्वामी माने जाते हैं।  मिथुन और तुला राशि वालों की ढैय्या साल 24 जनवरी साल 2020 में शुरु होने जा रही है। 
   यहां से मकर की द्वितीय ढैय्या, धनु की अंतिम ढैय्या और वृश्चिक राशि वाले शनि की साढ़े साती से मुक्त हो जाएंगे इस प्रकार शनि के धनु राशि के गोचर से 6 राशियों मेष,कर्क,सिंह,तुला,कुम्भ,एवं मीन को शुभ फलों की प्राप्ति होगी। शेष 6 राशियों ,वृषभ,मिथुन,कन्या,वृश्चिक धनु,मकर अशुभ फलों में वृद्धि करेंगे अतः उन्हें सतर्क एवं सावधान रह कर जरूरी उपाय करना चाहिए। शनि ग्रह का गोचर 24 जनवरी 2020 यानी शुक्रवार के दिन रात को 12 बजकर 10 मिनिट पर धनु राशि से मकर राशि मे हो रहा है शनि की यह अपनी ही राशि है । इसके बाद वर्ष 2022 में शनि (शुक्रवार) दिनांक 29 अप्रैल 2022 को दोपहर 12 बजकर 20 मिनट पर कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे। साथ ही साल 2025 में शनि, शनिवार दिनांक 29 मार्च 2025 को रात 11 बजकर 02 मिनट पर कुंभ से मीन राशि में प्रवेश करेंगे।
   वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि को न्यायधीश की उपाधि दी गई है। जब भी शनि का राशि परिवर्तन होता है तो प्रकृति के साथ- साथ मानव जीवन पर भी इसका अत्याधिक प्रभाव देखने को मिलता है।पण्डित दयानन्द शास्त्री जी ने बताया कि शनि मध्यम वर्ग, मजदूर वर्ग का भी कारक माना जाता है। शनि के राशि परिवर्तन के साथ ही कुछ राशियों पर शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या का प्रभाव शुरू हो जाएगा तो कुछ को इन सब चीजों से राहत मिलेगी। 
उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री जी से जानिए शनि का मकर राशि में गोचर करने पर सभी 12 राशियों पर क्या होगा प्रभाव (असर)---
  1. शनि गोचर 2020 मेष राशि -- शनि का गोचर आपके दसवें भाव में हो रहा है। कुंडली में दसवें भाव से कर्म को देखा जाता है। शनि का राशि परिवर्तन आपके लिए काफी शुभ है। शनि का परिवर्तन आपके कर्म को प्रभावित करेगा। इस राशि परिवर्तन से नौकरी करने वाले लोगों को अत्यंत ही लाभ प्राप्त हो सकता है। आपको इस समय में प्रमोशन मिल सकता है। मेष राशि के जो लोग काफी समय से अच्छी नौकरी का प्रयास कर रहे हैं तो इनको इस समय में एक अच्छी नौकरी प्राप्त हो सकती है। लेकिन इस समय में आपको अपनी माता और जीवनसाथी की सेहत का ख्याल रखना होगा। वहीं जीवनसाथी के साथ वैचारिक मतभेद भी हो सकता है। 
  2. शनि गोचर 2020 वृषभ राशि --- शनि के मकर राशि में जाने से इस रााशि से शनि की ढैय्या का असर बिल्कुल खत्म हो जाएगा। शनि का गोचर आपके नवें भाव में हो रहा है। कुंडली में नवें भाव से भाग्य का विचार किया जाता है। शनि का राशि परिवर्तन आपके लिए शुभ है। शनि का परिवर्तन आपके भाग्य में वद्धि करेगा। इस राशि के जिन लोगों का कोई काम काफी समय से अटका हुआ था। वह इस समय में पूरा हो जाएगा। आपको इस समय में आपके भाग्य का भरपूर साथ मिलेगा। लेकिन आपका इस समय अपने छोटे भाई बहनों के साथ विवाद हो सकता है। आपको इस समय में आपका कोई रोग भी परेशान करता है। धार्मिक कार्यों में आप इस समय बढ़ चढ़कर हिस्सा लेंगे। 
  3. शनि गोचर 2020 मिथुन राशि --- शनि का गोचर आपके अष्टम भाव में हो रहा है। कुंडली में अष्टम भाव से मृत्यु का विचार किया जाता है। शनि का राशि परिवर्तन आपके लिए अशुभ रहेगा। शनि का परिवर्तन आपकी परेशानियों को बढ़ा सकता है। इस राशि परिवर्तन के साथ ही आपकी शनि की ढैय्या भी आरंभ हो जाएगी। इस समय आपका अपने परिवार में झगड़ा हो सकता है। इसलिए आपको अपनी वाणी पर संयम रखना चाहिए। कार्यक्षेत्र में भी आपकाअपने उच्च अधिकारियों के साथ मतभेद हो सकता है। इसलिए आपको इस समय बहुत ही ज्यादा संभल कर चलना चाहिए। बच्चों की सेहत का इस समय विशेष ध्यान रखें।  
  4. शनि का गोचर 2020 कर्क राशि -- शनि का गोचर आपके सप्तम भाव में हो रहा है। कुंडली में सप्तम भाव से वैवाहिक जीवन का विचार किया जाता है। शनि का राशि परिवर्तन आपके लिए शुभ रहेगा। शनि का परिवर्तन आपके वैवाहिक जीवन में खुशियों का संदेश लेकर आ रहा है। इस समय जो जातक विवाह करना चाहते हैं उनके लिए यह समय काफी शुभ है। इस समय में आपका विवाह हो सकता है। कार्यक्षेत्र में भी आपको इस समय लाभ मिल सकता है। वहीं अगर आप नौकरी में परिवर्तन करना चाहते हैं तो भी यह समय आपके लिए काफी अच्छा है। इस समय आपकी प्रवृति काफी गंभीर हो जाएगी और आप सभी काम को काफी सोच विचार कर करेंगे। 
  5. शनि गोचर 2020 सिंह राशि -- शनि का गोचर आपके छठवें भाव में हो रहा है। कुंडली में छठवें भाव से रोग और शत्रु का विचार किया जाता है। शनि का राशि परिवर्तन आपके लिए सामान्य रहेगा। इस परिवर्तन से आपके शुत्र परास्त होंगे। अगर आपको काफी से किसी रोग ने परेशान कर रखा था तो वह भी इस समय में ठीक हो जाएगा। कोर्ट कचहरी के क्षेत्र में भी इस समय आपको सफलता प्राप्त होगी। लेकिन इस समय में आपके खर्चे बढ़ सकते हैं। ससुराल पक्ष से भी आपको इस समय परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इस समय आपरे पराक्रम में वृद्धि होगी। अगर आप विदेश जाना चाहते हैं तो भी आपके लिए समय काफी शुभ है। 
  6. शनि गोचर 2020 कन्या राशि --- इस राशि पर से शनि की ढैय्या समाप्त हो जाएगी। इस वजह से तमाम तरह की परेशानियों से इन्हें निजात मिल जाएगी। शनि का गोचर आपके पांचवें भाव में हो रहा है। कुंडली में पांचवें भाव से संतान और विद्या का विचार किया जाता है। शनि का राशि परिवर्तन आपके लिए शुभ रहेगा। इस परिवर्तन से आपको संतान सुख की प्राप्ति होगी। इस समय नव दंपत्ति के यहां संतान की किलकारियां गुंज सकती है। विद्यार्थियों को भी इस समय लाभ प्राप्त हो सकता है। अगर आप अपने किसी मंदपंसद कॉलेज या स्कूल में एडमिशन लेना चाहते हैं तो आपके लिए यह समय काफी शुभ है। लेकिन आपको इस समय वैवाहिक सुख में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। वहीं आपकी आय में भी कमीं हो सकती है। 
  7. शनि गोचर 2020 तुला राशि --- 24 जनवरी 2020 से शनि का मकर राशि में यानि आपके चतुर्थ भाव में प्रवेश होगा| उस समय स्थितिया परिवर्तन होगी और आपके सुख में वृद्धि होगी आपकी माता के साथ आपका रिश्ता अच्छा रहेगा किसी भी तरह का कोई भी आप कार्य भूमि, वाहन से सम्बंधित करते है| तो आपको उसमे सफलता हासिल होंगी| इसके अलावा गुरु जो की 30 मार्च को नीच के होकर मकर राशि में प्रवेश कर रहे है| उसके बाद वो 30 जून को पुनः धनु राशि में प्रवेश करेंगे और 20 नवम्बर को पुनः मकर राशि में प्रवेश कर जायेंगे| ये कुछ उत्तार चढाव गुरु का इस साल देखने को मिलेगा| राहू इस साल आपके भाग्य स्थान से आपके अष्टम स्थान यानि वृषभ राशि में 23 सितम्बर 2020 को प्रवेश करेंगे| वही 23 सितम्बर 2020 को केतु भी आपके राशि से द्वितीय भाव में यानि वृश्चिक राशि में प्रवेश करेंगे|शनि का गोचर आपके चौथे भाव में हो रहा है। कुंडली में चौथे भाव से सुख और माता का विचार किया जाता है। शनि का राशि परिवर्तन आपके लिए अशुभ रहेगा। इस राशि परिवर्तन के साथ ही आपके ऊपर शनि की ढैय्या की शुरू हो जाएगी। इस समय में आपकी माता की सेहत ठीक रहेगी। आपको वाहन, भूमि और वाहन के सभी सुख प्राप्त होंगे। लेकिन इस समय आपको अपने कार्यक्षेत्र में परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। इस समय में आपको शत्रु बाधा हो सकती है। कोर्ट कचहरी के मामलों में भी आपको परेशानी हो सकती है। शारीरीक का भी इस समय में आपको सामना करना पड़ सकता है। 
  8. शनि गोचर 2020 वृश्चिक राशि -----शनि के मकर राशि में जाने से वृश्चिक राशि वालों पर अब शनि की टेढ़ी नजर नहीं रहेगी। शनि का गोचर आपके तीसरे भाव में हो रहा है। कुंडली में तीसरे भाव से पराक्रम और छोटे भाई बहन का विचार किया जाता है। शनि का राशि परिवर्तन आपके लिए शुभ रहेगा। शनि का परिवर्तन आपके पराक्रम में वृद्धि करेगा। इस समय में आप अपना सभी काम अपने पराक्रम के दम पर पूरा कर लेंगे। आपका भाग्य भी इस समय में आपका साथ देगा। धार्मिक कार्यों में भी आप इस समय बढ़ चढ़कर हिस्सा लेंगे लेकिन आपको इस समय में अपनी संतान की तरफ से परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। आपके खर्च भी इस समय में अत्याधिक बढ़ सकते हैं। 
  9. शनि गोचर 2020 धनु राशि---धनु राशि अग्नितत्व, द्विस्वभाव राशि है । धनु राशि में स्थित होकर शनि तृतीय दृष्टि से कुम्भ राशि को प्रभावित करेंगे जो उनकी मूलत्रिकोण राशि है। ज्यादा अशुभ प्रभाव नहीं रहेगा। सप्तम दृष्टि से मिथुन राशि को देखेंगे जो उनके मित्र बुध की राशि है। शनि की दशम दृष्टि कन्या पर रहेगी जो फिर से बुध की ही राशि है ।  यह याद रखियेगा की शनि ग्रह गोचरवश राशि के अंतिम भाग में अर्थात 20 डिग्री से 30 डिग्री विशेष प्रभाव या फल उत्पन्न करते हैं। शनि एक राशि से दूसरी राशि में जाने के लिए लगभग ढाई साल का समय लेते हैं। यहां से, वह संपत्ति को इंकित करनेवाले चौथे भाव, दीर्घायु को इंकित करनेवाले 8 वीं भाव और लाभ और व्यवसाय को इंकित करने वाले 11 वें भाव पर अपनी दृष्टि डालते है। धनुष राशीवालों के लिए इन साढ़े सात वर्ष (साडे सती) को 'पाद शनी' कहा जाता है, जिसके दौरान शनि आपको अच्छे फल प्रदान करेगा, बशर्ते आपने अच्छी नैतिकता बनाए रखी हो। यह गोचर आपके करियर में सकारात्मक मोड़ ला सकता है, वित्तीय स्थिति में सुधार कर सकता है और आपके लंबित सपने को पूरा कर सकता है।इस राशि वाले सभी जातक सतर्क ओर सावधानी रखें। साल 2020 में शनि धनु राशि को छोड़कर मकर राशि में प्रवेश करेंगे। ऐसे में धनु राशि वालों से दूसरे चरण की साढ़ेसाती खत्म हो जाएगी और तीसरी चरण साढ़ेसाती यानी उतरती साढ़ेसाती आरंभ हो जाएगी। इससे धनु राशि वालों की पहले की मुकाबले से उनके जीवन में परेशानियां कम होती चली जाएगी। इस राशि के जो लोग सरकारी नौकरी में हैं, उनके लिए नौकरी में पदोन्नति और वित्तीय वृद्धि होगी। कला और सिनेमा क्षेत्र के लोग इस अवधि के दौरान अपने पेशे में लोकप्रियता और सुधार का आनंद लेंगे।  इस अवधि में शनि धनु राशि से द्वितीय भाव में गोचर करेगा, जो वित्त और परिवार का द्योतक है।शनि का गोचर आपके दूसरे भाव में हो रहा है। कुंडली में दूसरे भाव से धन और कुंटुंब का विचार किया जाता है। शनि का राशि परिवर्तन आपके लिए मध्यम रहेगा। शनि का परिवर्तन आपके धन में वृद्धि करेगा। इसी के साथ आप पर शनि की साढेसाती की आखिरी ढैय्या शुरु हो जाएगी। आपका परिवार भी इस समय में आपका पूरा साथ देगा। लेकिन आपको इस समय में कई परेशानियों का सामना भी करना पड़ेगा। आपको अपने ससुराल पक्ष से परेशानि हो सकती है। आपकी माता का स्वास्थय भी इस समय में खराब हो सकता है। वहीं लाभ की अपेक्षा आपको नुकसान का सामना भी करना पड़ सकता है। 
  10. शनि गोचर 2020 मकर राशि --- शनि का गोचर आपके लग्न भाव में हो रहा है। कुंडली में लग्न भाव से शरीर का विचार किया जाता है। अगर आप व्यापार करते हैं तो आपको इस समय बाहरी देशों के साथ अपना व्यापार बढ़ाने का मौका मिलेगा। आयात-निर्यात के क्षेत्र में आपको सफलता मिल सकती है। विदेश यात्रा अथवा जन्मस्थान से दूर जाने के योग भी आपके लिये बन रहे हैं। वर्ष 2020 में मंगल का लाभ स्थान में होना आपके अंदर हर समस्या से लड़ने की शक्ति प्रदान करेगा। इस वर्ष आपकी राशि पर शनि की साढेसाती का प्रथम चरण समाप्त हो जाएगा। जिससे आपको काफी राहत मिलेगी। वर्ष राशिफल 2020 में 24 जनवरी को शनि राशि परिवर्तन कर आपकी ही राशि में प्रवेश कर जाएंगें। स्वराशि के शनि का होना आपके लिये शनि का शश महायोग बनाएगा। जिससे आपके कार्यक्षेत्र की स्थिति में काफी अच्छा बदलाव देखने को मिलेगा।शनि का राशि परिवर्तन आपके लिए सामान्य ही रहेगा। शनि का परिवर्तन आपके शरीर के लिए तो ठीक है। लेकिन इस समय आपमें आलस्य की अधिकता रहेगी। जिसके कारण आप अपने कार्यों को ठीक प्रकार से नहीं कर पाएंगे। आपका इस समय में अपने जीवनसाथी के साथ भी झगड़ा हो सकता है। अगर आप व्यापार करते हैं तो आपको इस समय काफी संभल कर चलना चाहिए। नौकरी करने वाले जातकों को भी कार्यस्थल में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। 
  11. शनि गोचर 2020 कुंभ राशि --- इस राशि के जेक विशेष ध्यान(सावधानी) रखें क्यों कि शनि का गोचर आपके बारहवें भाव में हो रहा है। कुंडली में बारहवें भाव से खर्च का विचार किया जाता है। पंडित दयानन्द शास्त्री जी ने बताया कि शनि का राशि परिवर्तन इस राशि के लिए अशुभ ही रहेगा। शनि का परिवर्तन आपके खर्चों को बढाएगा। इस राशि परिवर्तन के साथ ही आप पर शनि की साढेसाती शुरू हो जाएगी। इस समय में आपको खर्च बढ़ सकते हैं। आपको कोई पुराना रोग भी फिर से परेशान कर सकता है। शत्रुओं से आपको इस समय विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है। परिवार में भी किसी के साथ आपका झगड़ा हो सकता है। धन संबंधी परेशानियां भी हो सकती है। इस समय में आपको भाग्य के भरोसे नहीं रहना चाहिए। 
  12. शनि गोचर 2020 मीन राशि---- शनि का गोचर आपके ग्यारहवें भाव में हो रहा है। कुंडली में ग्यारहवें भाव से आय का विचार किया जाता है। शनि का राशि परिवर्तन आपके लिए शुभ रहेगा। शनि का परिवर्तन आपकी आय को बढाएगा। यह राशि परिवर्तन आपकी सभी इच्छाओं को पूर्ण करेगा। इस समय में आपकी सैलरी बढ़ सकती है। कार्यक्षेत्र में भी आपका मान सम्मान बढ़ेगा। आपके स्वाभाव में गंभीरता आएगी और आप अपने सभी कामों को अत्याधिक विचारकर ही करेंगे। लेकिन ध्यान रखें, वैवाहिक जीवन के लिए यह समय ठीक नहीं है। आप वयस्त होने के कारण इस समय अपने पार्टनर को समय नहीं दे पाएंगे और अगर आप शादीशुदा हैं तो आपका अपनी ससुरालवालों के साथ मतभेद हो सकता है। 

जाने और समझें, शनि का फल कथन कैसे करें--
आपकी कुंडली और गोचर मिलाकर ही फलकथन किया जा सकता है अकेला गोचर कभी भी फलदाई नहीं होता  फलदीपिका, जातक पारिजात जैसे महान ज्योतिष ग्रंथों में एक बहुत सरल तरीका बताया हुआ है की जन्म चन्द्रराशि से 3, 6, 11 राशि में शनि का गोचर शुभ होता है यदि क्रमशः वेध स्थान 12, 9, 5 में कोई अन्य ग्रह न हो। उदाहरणार्थ तुला राशि के लिए धनु का शनि 3वे होकर शुभ होना चाहिए अगर 12वे कन्या में कोई ग्रह (सूर्य के अतिरिक्त) गोचर न कर रहा हो। परन्तु किसी ग्रह के गोचर का मनुष्य पर प्रभाव सिर्फ जन्म लग्न अथवा जन्म राशि देखकर बताना असंभव है। इसके लिए कुंडली का सूक्ष्म अध्ययन आवश्यक है। साथ ही शनि के अलावा 8 और ग्रह हैं जिनके गोचर का प्रभाव आपको देखना होगा। मैं आपको एक छोटा सा सूत्र देता हूँ जिसको आप खुद अपनी कुंडली में देख सकते हैं की शनि का गोचर आपको कैसा फल देगा। इसके लिए आप अपनी कुंडली में शनि का अष्टकवर्ग देखिये। इस अष्टक वर्ग में देखिये की धनु राशि में कितने बिंदु/रेखा/अंक हैं। अगर यह संख्या 0, 1, 2, 3 है तो सामान्यतः अशुभ फल मिलेगा, अगर संख्या 4 है तो मिला जुला, 5, 6, 7, 8 है तो शुभ फल मिलेगा। ऐसा आप अनुमान लगा सकते हैं।अतः अगर आपकी चन्द्र राशि तुला, कर्क, कुम्भ है और आपकी कुंडली में शनि के अष्टक वर्ग में 5 से 8 बिंदु हैं तो आप शनि के धनु राशि में गोचर से अच्छे फल की आशा कर सकते हो।

जानिए शनि की साढ़ेसाती को कम करने के उपाय ---
कृपया इन्हें आप नियमिति ध्यान रख करें l इससे आप पर शनि का प्रकोप कम हो जायेंगा. इस समय साढे साती ‘वृश्चिक’ ‘धनु’ और ‘मकर’ राशि में चालू है और इनका प्रभाव काफी गहरा हो रहा है इन राशि के जातकों को बहुत ही ध्यान से अपने सारे काम पूर्ण करने चाहिए. 
साढ़ेसाती से बचने के लिए यह है महत्वपूर्ण उपाय .
  1. साडेसाती राशि वाले जातक नित्य सुबह उठकर ‘ॐ शं शनिश्चराय नमः’ का जाप अवश्य करना चाहियें l
  2. नित्य शनिदेव की मूर्ति को हाथ जोड़ नमस्कार कर घर से निकलना चाहियें l
  3. यदि हो सकें तो नित्य शनि देव की चालीसा को पढ़ना चाहियें l
  4. सप्ताह में शनिवार के दिन शनि देव की पूजा अवश्य करनी चाहियें l
  5. यदि आप से हो सके तो शनिवार को शनि देव के उपवास करें l यह विशेष फलदायक होंगे l
  6.  (नोट : ध्यान रहे उपवास में कोई भी विघ्न नहीं आना चाहियें क्यूँ की शनि देव जल्दी नाराज हो जातें है l तो इस बात का अवश्य ध्यान दे अगर संकल्प ले तो उसे पूरा करें न हो सके तो न ले l
  7. शनि देव का यंत्र अपने पूजा स्थल अपने तिजोरी में अवश्य रखें l
  8. शनि देव को मनाने के लिए आप मंगलवार के दिन हनुमान मंदिर में भी पूजा कर सकते है l हनुमान देव की पूजा शनि की पूजा कहलाती है l
  9. शनिवार को काला वस्त्र पहने l अगर न पहन सकों तो कम से कम एक काला रुमाल अपने पास अवश्य रखें l
  10. शनि देव सूर्य भगवान के पुत्र है इसलिए रोज सूर्य भगवान को जल अवस्य चढ़ाएं इससे विशेष कृपा प्राप्त होंगी l
  11. शनि देव की माता छाया है l इसलिए आप शाम के समय या रात को शनि देव का ध्यान करें इससे भी उनकी कृपा बनी रहेंगी l
  12. “ॐ शं शनिश्चराय नमः” यह मंत्र जितना आप जपेंगे l उतना शनि का प्रकोप कम होगा l यह मंत्र ही साढ़ेसाती का रामबाण उपाय है l
Edited by: Editor

कमेंट्स

हिंदी में यहाँ लिखे
Ads By Google info

वास्तु

हस्त रेखा

ज्योतिष

फिटनेस मंत्र

चालीसा / स्त्रोत

तंत्र मंत्र

निदान

ऐसा क्यों

धार्मिक स्थल

 
Copyright © Asha News