ताजा खबरें
Loading...

अनमोल विचार

सर्वाधिक पड़े गए लेख

Subscribe Email

नए लेख आपके ईमेल पर


जानिए 2019 में कब और कैसे मनाएं गणेश चौथ (गणेश चतुर्थी)

भगवान गणेश का जन्म भाद्रपद के शुक्लपक्ष की चतुर्थी को दिन मध्याह्र काल में, स्वाति नक्षत्र और सिंह लग्न में हुआ था। इसी कारण मध्याह्र काल में ही भगवान गणेश की पूजा की जाती है। इसे बहुत शुभ माना गया है। इस वर्ष गणेश चतुर्थी 2 सितंबर,2019 (सोमवार) को मनाया जाएगा। भारतीय पुराणों में गणेश जी को विद्या-बुद्धि का प्रदाता, विघ्न-विनाशक और मंगलकारी बताया गया है। हर माह के कृष्णपक्ष की चतुर्थी को संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत किया जाता है। इस वर्ष गणेश चतुर्थी के दिन  पूजन का शुभ मूहर्त दोपहर 11 बजकर 4 मिनट से 1 बजकर 37 मिनट तक है। पूजा का शुभ मूहर्त करीब दो घंटे 32 मिनट की अवधि है। 
        भाद्र प्रद मास के शुक्लपक्ष की चतुर्थी को गणेश चतुर्थी के रूप में मनाया जाता है। गणेश चतुर्थी का पर्व बहुत ही विशेष होता है। इस दिन भगवान गणेश का जन्म हुआ था। हर साल भाद्रपद मास में गणेश चतुर्थी मनाया जाता है। गणेश चतुर्थी के दिन लोग खासतौर पर गणेश भगवान की पूजा करते हैं। महिलाएं इस दिन व्रत रहती हैं। मान्यता है कि इन 10 दिनों में बप्पा अपने भक्तों के घर आते हैं और उनके दुख हरकर ले जाते हैं। यही वजह है कि लोग उन्हें अपने घर में विराजमान करते हैं। 10 दिन बाद उनका विसर्जन किया जाता है। लगभग 10 दिन तक चलने वाला गणेश चतुर्थी उत्सव इस वर्ष 2 सितंबर 2019 से शुरू होकर 13 सितम्बर (अनन्त चतुर्दशी ) पर सम्पन्न होगा। गणेश चतुर्थी पर लोग अपने घरों में गणेश भगवान को विराजमान करते हैं और गणेश चतुर्थी के दिन उनका विसर्जन किया जाता है। लोक 11, 7 दिन के लिए घर में गणपति को विराजमान करते हैं। ऐसा कहा जाता है कि बप्पा इन दिनों में अपने भक्तों के सभी दुख दूर करके ले जाते हैं। 
Know-when-and-how-to-celebrate-Ganesh-Chauth-Ganesh-Chaturthi-in-2019-जानिए 2019 में कब और कैसे मनाएं गणेश चौथ (गणेश चतुर्थी)     ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री जी ने बताया की महाराष्ट्र में यह त्योहार गणेशोत्सव के तौर पर मनाया जाता है। ये दस तक त्योहार चलता है और अनंत चतुर्दशी पर समाप्त होता है। इस दौरान गणेश की भव्य पूजा की जाती है। लोग अपने घरों में भी इस मौके पर गणेश जी की प्रतिमा का स्थापना करते हैं। गणपति ऐसे देव हैं जिनके शरीर के अवयवों पर संपूर्ण ब्रह्माण का वास होता है। चारों वेद और उनकी ऋचाएं होती हैं। इसलिए गणपति की पूजा सदा आगे से करनी चाहिए। उनकी परिक्रमा लें लेकिन पीठ के दर्शन नहीं करें।
जानिए कैसे करें गणपति की प्रतिष्ठापना---
गजानन को लेने जाएं तो नवीन वस्त्र धारण करें। इसके बाद हर्षोल्लास के साथ उनकी सवारी लाएं। घर में लाने के बाद चांदी की थाली में स्वास्तिक बनाकर उसमें गणपति को विराजमान करें। चांदी की थाली संभव न हो पीतल या तांबे का प्रयोग करें।  घर में विराजमान करें तो मंगलगान करें, कीर्तन करें। लड्डू का भोग भी लगाएं। इसके बाद रोज सुबह -शाम उनकी आरती करें और मोदक का भोग लगाएं और अंतिम दिन विसर्जन करें।
जानिए कैसा हो पूजा स्थल--
आज आप इस समय अपने घर गणपति को विराजमान करें। कुमकुम से स्वास्तिक बनाएं। चार हल्दी की बंद लगाएं। एक मुट्ठी अक्षत रखें। इस पर छोटा बाजोट, चौकी या पटरा रखें। लाल, केसरिया या पीले वस्त्र को उस पर बिछाएं। रंगोली, फूल, आम के पत्ते और अन्य सामग्री से स्थान को सजाएं। तांबे का कलश पानी भर कर, आम के पत्ते और नारियल के साथ सजाएं। यह तैयारी गणेश उत्सव के पहले कर लें। 
जानिए क्यों नही करने चाहिए विघ्नहर्ता गणेश जी की पीठ के दर्शन--
देवों के देव गणपति जी की पूजा करते समय ध्यान रखें कि कभी उनकी पीठ का दर्शन ना करें। पण्डित दयानन्द शास्त्री जी बताते हैं की विघ्नहर्ता गणपति ऐसे देव हैं जिनके शरीर के अवयवों पर संपूर्ण ब्रह्माण का वास होता है।  गणपति की सूंड पर धर्म का वास है। नाभि में जगत वास करता है। उनकी आंखों या नयनों में लक्ष्य, कानों में ऋचाएं और मस्तक पर ब्रह्मलोक का वास है। हाथों में अन्न और धन, पेट में समृद्धि और पीठ पर दरिद्रता का वास है। इसलिए, पीठ के दर्शन कभी नहीं करने चाहिएं।
विघ्नहर्ता विनायक गणेश जी के कुछ सिद्ध ओर प्रभावी (लाभकारी) मन्त्र ये हैं--

नमस्ते योगरूपाय सम्प्रज्ञातशरीरिणे । असम्प्रज्ञातमूर्ध्ने ते तयोर्योगमयाय च ॥
अर्थ
हे गणेश्वर ! सम्प्रज्ञात समाधि आपका शरीर तथा असम्प्रज्ञात समाधि आपका मस्तक है । आप दोनों के योगमय होने के कारण योगस्वरूप हैं, आपको नमस्कार है ।

वामाङ्गे भ्रान्तिरूपा ते सिद्धिः सर्वप्रदा प्रभो । भ्रान्तिधारकरूपा वै बुद्धिस्ते दक्षिणाङ्गके ॥
अर्थ:
प्रभो ! आपके वामांग में भ्रान्तिरूपा सिद्धि विराजमान हैं, जो सब कुछ देनेवाली हैं तथा आपके दाहिने अंग में भ्रान्तिधारक रूपवाली बुद्धि देवी स्थित हैं ।

मायासिद्धिस्तथा देवो मायिको बुद्धिसंज्ञितः । तयोर्योगे गणेशान त्वं स्थितोऽसि नमोऽस्तु ते ॥
अर्थ :
भ्रान्ति अथवा माया सिद्धि है और उसे धारण करनेवाले गणेशदेव मायिक हैं । बुद्धि संज्ञा भी उन्ही की है । हे गणेश्वर ! आप सिद्धि और बुद्धि दोनों के योग में स्थित हैं । आपको बारम्बार नमस्कार है ।

जगद्रूपो गकारश्च णकारो ब्रह्मवाचकः । तयोर्योगे गणेशाय नाम तुभ्यं नमो नमः ।।

अर्थ :
गकार जगत्स्वरूप है और णकार ब्रह्मका वाचक है । उन दोनों के योग में विद्यमान आप गणेश-देवता को बारम्बार नमस्कार है ।

चौरवद्भोगकर्ता त्वं तेन ते वाहनं परम् । मूषको मूषकारूढो हेरम्बाय नमो नमः ॥

अर्थ :
आप चौर की भाँति भोगकर्ता हैं, इसलिए आपका उत्कृष्ट वाहन मूषक है । आप मूषक पर आरूढ़ हैं । आप हेरम्ब को बारम्बार नमस्कार है ।

ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री जी से जानिए की आप कैसे अपनी  राशि के अनुसार गणेश जी को भोग लगाकर इस गणेशोत्सव पर उनकी विशेष कृपा पा सकते हैं।
  1. मेष राशि वाले लोग - बप्पा को छुआरा और गु़ड़ के लड्डू का भोग लगाएं।
  2. वृषभ राशि वाले लोग -- गणपति जी को मिश्री या नारियल से बने लड्डू का भोग लगाएं।
  3. मिथुन राशि वाले -- लोग गणपति को मूंग के लड्डू का भोग लगाएं।
  4. कर्क राशि वाले -- लोग मोदक, मक्खन या खीर का भोग लगाएं। 
  5. सिंह राशि वाले --जातक गु़ड़ से बने मोदक या छुआरे का भोग लगाएं ।    
  6. कन्या राशि वाले-- लोग हरे फल या किशमिश का भोग लगाएं। 
  7. तुला राशि वाले -- जातक मिश्री, लड्डू और केला का भोग लगाएं।
  8. वृश्चिक राशि वाले --लोग गणपति को छुआरा और गु़ड़ के लड्डू का भोग लगाएं।  
  9. धनु राशि वाले -- लोग भगवान गणेश को लगाएं मोदक व केला का भोग।
  10. मकर राशि वाले -- लोग तिल के लड्डू का भोग लगाएं।
  11. कुंभ राशि वाले -- लोग गणपति को गु़ड़ के लड्डू का भोग लगाएं।
  12. मीन राशि वाले -- लोग बेसन के लड्डू, केला व बादाम का भोग लगाएं।

जानिए इस वर्ष गणपति विसर्जन का शुभ मुहूर्त आपकी सुविधानुसार--
गणेश चतुर्थी के दिन भी गणपति को वारजमान कराकर विसर्जन कराया जा सकता है। हालांकि, यह प्रक्रिया बहुत लोगों द्वारा नहीं अपनाई जाती और वे कुछ दिन (3 दिन,5 दिन, 7 दिन या 11 दिन) भगवान गणेश को अपने घर पर रखने के बाद ही विदाई देते हैं। इस त्योहार के दौरान भक्त अमूमन 7 से 11 दिन के लिए अपने घर में गणपति को विराजमान कराते हैं। वहीं, कुछ लोग 3, 5, 7 या 10 दिन में भी गणपति का विसर्जन करते हैं। इस तरह से 11 दिन चलने वाला गणेशोत्सव अनंत चतुर्दशी के दिन समाप्त हो जाता है।

ऐसे में पण्डित दयानन्द शास्त्री जी से जाने इस वर्ष 2019 में गणेशोत्सव के दिन के हिसाब से गणपति विसर्जन के शुभ मुहूर्त --
गणेश चतुर्थी (स्थापना) के दिन विसर्जन (2 सितंबर, 2019 को)के शुभ मुहूर्त इस तरह रहेंगें--
  • दोपहर में मुहूर्त: 1.55 AM से 6.38 PM तक 
  • शाम में मुहूर्त: 6.38 PM से 8.04 PM 
  • रात का मुहूर्त: 10.55 PM से 12.21 AM (3 सितंबर)
  • तड़के सुबह मुहूर्त: 1.47 AM से 6.04 AM (3 सितंबर)

तीन दिन पर गणपति विसर्जन का शुभ मुहूर्त  --
  • सुबह का मुहूर्त: 6.04 AM से 9.12 AM तक और फिर 10.46 AM से 12.20 PM तक 
  • दोपहर में मुहूर्त: 3.28 PM से 6.36 PM तक 
  • शाम में मुहूर्त: 8.20 PM से 12.20 AM (5 सितंबर) 
  • तड़के सुबह मुहूर्त: 3.12 AM से 4.39 AM (5 सितंबर)

सात दिन होने पर गणपति विसर्जन का शुभ मुहूर्त--
  • सुबह का मुहूर्त: 7.39 AM से 12.19 PM 
  • दोपहर में मुहूर्त: 1.52 PM से 3.25 PM  
  • शाम में मुहूर्त: 6.31 PM से 10.52 PM 
  • रात का मुहूर्त: 1.46 AM से 03.13 AM (9 सितंबर) 
  • तड़के सुबह मुहूर्त: 4.40 AM से 6.07 AM (9 सितंबर)

गणेश (अनन्त) चतुर्दशी यानी गणेश महोत्सव के 11वें दिन अनंत चतुर्दशी पर विसर्जन का शुभ मुहूर्त--
  • सुबह का मुहूर्त: 6.08 AM से 7.40 AM और फिर 10.45 AM से 3.22 PM 
  • दोपहर में मुहूर्त: 4.54 PM से 6.27 PM  
  • शाम में मुहूर्त: 6.27 PM से 9.22 PM 
  • रात का मुहूर्त: 12.18 AM से 1.45 AM (13 सितंबर)

जाने और समझें उज्जैन के नागचंद्रेश्वर मंदिर के महत्व को

प्रसिद्ध उज्जैन स्थित नागचन्द्रेश्वर मंदिर देश का एक ऐसा मंदिर है जिसके कपाट साल में केवल एक दिन के लिए खोले जाते हैं। हालांकि यहां ऐसी कोई विषम भौगोलिक या प्राकृतिक परिस्थिति नहीं है, तब भी इस मंदिर के पट केवल सावन महीने में नागपंचमी के दिन खोले जाते हैं। नागचन्द्रेश्वर मंदिर द्वादश ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर मंदिर के परिसर में सबसे ऊपर यानी तीसरे खंड में स्थित है. ग्यारहवीं शताब्दी के इस मंदिर में नाग पर आसीन शिव-पार्वती की अतिसुंदर प्रतिमा है, जिसके ऊपर छत्र के रूप में नागदेवता अपना फन फैलाए हुए हैं।
       हिंदू धर्म में सदियों से नागों की पूजा करने की परंपरा रही है। हिंदू परम्परा में नागों को भगवान का आभूषण भी माना गया है। भारत में नागों के अनेक मंदिर हैं, इन्हीं में से एक मंदिर है उज्जैन स्थित नागचंद्रेश्वर जी का,जो की उज्जैन के प्रसिद्ध महाँकाल मंदिर की तीसरी मंजिल पर स्थित है। इसकी खास बात यह है कि यह मंदिर साल में सिर्फ एक दिन नागपंचमी (श्रावण शुक्ल पंचमी) पर ही दर्शनों के लिए खोला जाता है। ऐसी मान्यता है कि  नागराज तक्षक स्वयं मंदिर में रहते हैं। भगवान शिव के इस रुप को नागचन्द्रेश्वर महादेव कहा जाता है. यहां की परंपरा के अनुसार आम दर्शनार्थी नागचन्द्रेश्वर महादेव का दिव्य दर्शन वर्ष में केवल एक बार नागपंचमी पर्व के दिन ही कर पाते हैं।
जाने और समझें उज्जैन के नागचंद्रेश्वर मंदिर के महत्व को-Know-the-Importance-of-Ujjain-Nagchandreshwar-Templeगौरतलब है कि श्री महाकालेश्वर मंदिर तीन खंडों में बंटा है और इस मंदिर के विशाल प्रांगण पहली मंजिल पर भगवान महाकालेश्वर, दूसरी मंजिल पर श्री ओंकारेश्वर और तीसरी मंजिल पर भगवान नागचन्द्रेश्वर स्थापित हैं।  ऐतिहासिक साक्ष्य यह बताते हैं कि श्री नागचन्द्रेश्वर भगवान की प्रतिमा नेपाल से यहां लायी गयी थी. नागपंचमी पर्व के अवसर पर श्री महाकालेश्वर और श्री नागचंद्रेश्वर भगवान के दर्शन के लिए आए श्रद्धालुओं के लिए अलग-अलग प्रवेश की व्यवस्था की जाती है।नागचंद्रेश्वर मंदिर में  11वीं शताब्दी की एक अद्भुत प्रतिमा है, इसमें फन फैलाए नाग के आसन पर शिव-पार्वती बैठे हैं। कहते हैं यह प्रतिमा नेपाल से यहां लाई गई थी। उज्जैन के अलावा दुनिया में कहीं भी ऐसी प्रतिमा नहीं है।
  पूरी दुनिया में यह एकमात्र ऐसा मंदिर है, जिसमें विष्णु भगवान की जगह भगवान भोलेनाथ सर्प शय्या पर विराजमान हैं। मंदिर में स्थापित प्राचीन मूर्ति में शिवजी, गणेशजी और मां पार्वती के साथ दशमुखी सर्प शय्या पर विराजित हैं। शिवशंभु के गले और भुजाओं में भुजंग लिपटे हुए हैं। उज्जैन (मप्र) के महाकालेश्वर मंदिर के शिखर पर स्थित नागचंद्रेश्वर महादेव मंदिर दर्शनार्थियों के लिए खोला जाता है। ये मंदिर साल में एक बार नाग पंचमी पर ही खुलता है। मान्यता है कि इस मंदिर में विराजित नाग चंद्रेश्वर के दर्शन मात्र से कालसर्प दोष और दुर्भाग्य दूर हो जाता है।
    प्राचीन परंपरा अनुसार का एकमात्र ऐसा भगवान नागचन्द्रेश्वर का मंदिर है जो भारतीय संस्कृति के अनुसार वर्ष में केवल श्रावण शुक्ल की पंचमी के दिन आम दर्शनार्थियों के लिए खोला जाता है. 60 फुट ऊंचाई पर स्थित इस मंदिर के नागपंचमी के पर्व के श्रद्धालुओं के दर्शन के लिये पहुंचने हेतु पुराने समय में एक-एक फुट की सीढियां बनाई थीं जो रास्ता संकरा और छोटा था. इस रास्ते से एक समय में एक ही दर्शनार्थी आ जा सकता था. लेकिन वर्ष प्रतिवर्ष देश के विभिन्न प्रांतों से यहां आने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा और सुविधाओं को देखते हुए एक अन्य लोहे की सीढियां का निर्माण कराया गया था. वर्तमान में आने जाने के अलग-अलग रास्ते बनाये गये हैं. 
      इन लोहे की सीढियों के मार्ग के निर्माण होने से एक दिन में लाखों श्रद्धालु कतारबद्ध होकर नागचन्द्रेश्वर मंदिर में दर्शन का पुण्य लाभ लेते है. महाकालेश्वर मंदिर के महंत प्रकाशपुरी ने बताया कि नागचन्द्रेश्वर भगवान की प्रतिमा नेपाल से यहां लायी गयी और चमत्कारिक एवं आकर्षक प्रतिमा के साथ श्री लक्ष्मी माता और शंकर पार्वती नंदी पर विराजित हैं। यह मंदिर शिखर के प्रथम तल पर स्थित है और नागचन्द्रेश्वर भगवान के साथ इनका भी पूजन नागपंचमी के दिन किया जाता है. उज्जैन में गत 17 जुलाई 2019 से शुरू हुए श्रावण माह की नागपंचमी के दिन में भगवान महाकालेश्वर मंदिर सहित अन्य महादेव मंदिर में प्रतिवर्ष विभिन्न प्रांतों से लाखों की संख्या में दर्शनार्थी दर्शन के लिये आते हैं. महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति द्वारा भगवान महाकालेश्वर और भगवान नागचन्द्रेश्वर के दर्शन के लिए आये दर्शनार्थियों को नागपंचमी पर्व पर दोनों अलग-अलग मंदिर आने जाने के पृथक व्यवस्था की जाती है।
जानिए क्या है पौराणिक मान्यता
सर्पराज तक्षक ने शिवशंकर को मनाने के लिए घोर तपस्या की थी। तपस्या से भोलेनाथ प्रसन्न हुए और उन्होंने सर्पों के राजा तक्षक नाग को अमरत्व का वरदान दिया। मान्यता है कि उसके बाद से तक्षक राजा ने प्रभु के सा‍‍‍न्निध्य में ही वास करना शुरू कर दिया। लेकिन महाँकाल वन में वास करने से पूर्व उनकी यही मंशा थी कि उनके एकांत में विघ्न ना हो अत: वर्षों से यही प्रथा है कि मात्र नागपंचमी के दिन ही वे दर्शन को उपलब्ध होते हैं। शेष समय उनके सम्मान में परंपरा के अनुसार मंदिर बंद रहता है। इस मंदिर में दर्शन करने के बाद व्यक्ति किसी भी तरह के सर्पदोष से मुक्त हो जाता है, इसलिए नागपंचमी के दिन खुलने वाले इस मंदिर के बाहर भक्तों की लंबी कतार लगी रहती है।
     यह मंदिर काफी प्राचीन है। माना जाता है कि परमार राजा भोज ने 1050 ईस्वी के लगभग इस मंदिर का निर्माण करवाया था। इसके बाद सिं‍धिया घराने के महाराज राणोजी सिंधिया ने 1732 में महाकाल मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया था। उस समय इस मंदिर का भी जीर्णोद्धार हुआ था। सभी की यही मनोकामना रहती है कि नागराज पर विराजे शिवशंभु की उन्हें एक झलक मिल जाए। लगभग दो लाख से ज्यादा भक्त एक ही दिन में नागदेव के दर्शन करते हैं।
  • नागपंचमी पर वर्ष में एक बार होने वाले भगवान नागचंद्रेश्वर के दर्शन के लिए इस वर्ष 5 अगस्त 2019 को मंदिर के पट खुलेंगे।  नागपंचमी के बाद मंदिर के पट पुनः बंद कर दिए जाएंगे।
  • नागचंद्रेश्वर मंदिर की पूजा और व्यवस्था महानिर्वाणी अखाड़े के संन्यासियों द्वारा की जाती है। 
  • नागपंचमी पर्व पर बाबा महाँकाल और भगवान नागचंद्रेश्वर के दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं के लिए अलग-अलग प्रवेश की व्यवस्था की गई है। इनकी कतारें भी अलग होंगी। रात में भगवान नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट खुलते ही श्रद्धालुओं की दर्शन की आस पूरी होगी।
  • 5 अगस्त 2019 को (नागपंचमी के शुभ अवसर पर) को दोपहर 12 बजे पूजा होगी, यह सरकारी पूजा होगी यह परंपरा रियासतकाल से चली आ रही है।इसके बाद रात 8 बजे श्री महाकालेश्वर प्रबंध समिति द्वारा पूजन होगा।
  • महाकालेश्वर मंदिर के शिखर पर स्थित श्रीनागचंद्रेश्वर मंदिर के पट नागपंचमी के दिन साल में एक बार 24 घंटे के लिए खुलते हैं। इस साल नागपंचमी 5 अगस्त, सोमवार के दिन पड़ रही है, वहीं मंदिर के कपाट रविवार की रात को 12 बजे खोल दिए जाएंगे। मान्यताओं के अनुसार यहां मंदिर में नागराज तक्षक स्वयं मंदिर में रहते हैं।

विश्व की एकमात्र अद्भुत प्रतिमा हैं 
नागचंद्रेश्वर मंदिर में 11वीं शताब्दी की एक अद्भुत प्रतिमा है, इसमें फन फैलाए नाग के आसन पर शिव-पार्वती बैठे हैं। कहते हैं यह प्रतिमा नेपाल से यहां लाई गई थी। उज्जैन के अलावा दुनिया में कहीं भी ऐसी प्रतिमा नहीं है। पूरी दुनिया में यह एकमात्र ऐसा मंदिर है, जिसमें विष्णु भगवान की जगह भगवान भोलेनाथ सर्प शय्या पर विराजमान हैं। मंदिर में स्थापित प्राचीन मूर्ति में शिवजी, गणेशजी और मां पार्वती के साथ दशमुखी सर्प शय्या पर विराजित हैं। शिवशंभु के गले और भुजाओं में भुजंग लिपटे हुए हैं।
महाकालेश्वर मंदिर से जुड़ी विशेष जानकारी (बातें)
  • मध्य प्रदेश के उज्जैन में पवित्र शिप्रा नदी के तट पर बसे उज्जैन को पुराने समय में अवंतिका, उज्जयिनी आदि नामों से जाना जाता था। यहां शिवजी के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग हैं।
  • महाकाल भगवान के दर्शन से अकाल मृत्यु से रक्षा होती है। इस ज्योतिर्लिंग के महत्व और शक्तियों का वर्णन कई ग्रंथों में मिलता हैं। महाकाल ज्योतिर्लिंग को कालों का काल माना जाता हैं। कहा जाता है कि इनके दर्शन करने से मनुष्य को अकाल मृत्यु का भय नहीं रहता।
  • उज्जैन प्राचीन सप्त पुरियों में से एक है। कहा जाता है कि सम्राट विक्रमादित्य के समय उज्जैन भारत की राजधानी थी। द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण और बलराम ने यहीं पर महर्षि सांदीपनि के आश्रम में शिक्षा प्राप्त की थी।
  • उज्जैन को ज्योतिष विद्या का केन्द्र भी माना जाता है। साथ ही, इसी स्थान से समय की गणना भी की जाती है। इसलिए इस स्थान को पृथ्वी के नाभि प्रदेश के नाम से भी जाना जाता है।
  • रोज सुबह महाकाल की भस्म आरती होती है।

कैसे पहुंचे उज्जैन 
  • हवाई मार्ग-उज्जैन से लगभग 60 किमी दूरी पर इंदौर का एयरपोर्ट है। यहां तक हवाई मार्ग से पहुंच सकते हैं। इसके बाद रेल या सड़क मार्ग से महाकाल मंदिर पहुंचा जा सकता है।
  • रेल मार्ग-देश के लगभग सभी बड़े शहरों से उज्जैन के लिए रेल गाड़ियां मिल जाती हैं।
  • सड़क मार्ग-उज्जैन भोपाल से करीब 200 किमी और इंदौर से करीब 60 किमी दूर स्थित है। सभी प्रमुख शहरों से उज्जैन पहुंचने के लिए सड़क मार्ग से भी कई साधन मिल जाते हैं।

जाने ओर समझें माइग्रेन/आधासीसी रोग के ज्योतिषीय कारणों को

सिर दर्द सिर में होने वाले किसी कम, मध्यम या तीव्र दर्द को कहा जाता है जो कि सर में आंखों या कानों के ऊपर, सर के पिछले हिस्से में या गर्दन में होता है। यदि सर में चोट लगने पर आपको अचानक बहुत तेज़, सिर दर्द होता हो या गर्दन में अकड़न, बुखार, बेहोशी या आंख या कान में दर्द होना इत्यादि की शिकायत हो तो यह एक गंभीर विकार भी हो सकता है और जिसके लिए आपको तत्काल चिकित्सीय परामर्श लेना चाहिए।
         इसमे ज्योतिष विज्ञान आपकी मदद कर सकता है। ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री जी ने बताया कि यदि किसी विशेषज्ञ को जन्मकुंडली दिखाई जाए तो वह बता सकता है कि व्यक्ति में किन रोगों के आक्रण की अधिक संभावना है और उसके स्वास्थ्य की भावी स्थिति क्या है। प्राचीन समय में प्रसिद्ध रोग विज्ञानी हिप्पोक्रेट्स सबसे पहले व्यक्ति की जन्मसंबंधी तालिका का अध्ययन करता था और फिर उपचार संबंधी कोई निर्णय लेता था। कोई भी व्यक्ति किस रोग से पीडि़त होता है, यह इस पर निर्भर करता है कि उसके भाव या राशि का संबंध जन्म कुंडली में कौन से अनिष्टकर ग्रह से किस रूप में है। ऐसा इसलिए है कि प्रत्येक राशि एक या एकाधिक शारीरिक अंगों से जुड़ी होती है। इसके साथ ही प्रत्येक ग्रह वायु, अग्नि, जल या आर्द्र प्रकृति वाला कोई एक प्रभुत्वकारी गुण लिए हुए होता है। आयुर्वेद में इसे वात-पित्त-कफ के रूप में बताया गया है। इस तरह राशि चक्र में अंकित शारीरिक अंग और प्रभुत्वकारी ग्रह की विशेषता के मेल से यह तय होता है कि किस व्यक्ति को कौन-सी बीमारी होगी।
जाने ओर समझें माइग्रेन/आधासीसी रोग के ज्योतिषीय कारणों को-Know-and-understand-the-astrological-causes-of-migraine-diseaseवर्तमान समय में माइग्रेन (आंधाशीशी या अर्धकापरि) की समस्या तेजी से बढ़ती जा रही है । अधिकांश लोगों के जीवन में माइग्रेन दर्द एक बड़ी बाधा के रूप में बना रहता है। चिकित्सीय दृष्टि से माइग्रेन या आंधाशीशी एक तीव्र प्रकार का सिरदर्द है जिसमे सिर के एक भाग में असहनीय पीड़ा होती है और यह दर्द कुछ घंटों से लेकर लगातार कई दिनों तक भी बना रह सकता है।
    सिर, मस्तिष्क एवं आंखों, विशेष रूप से सर का अगला हिस्सा, आंखों से नीचे और सर के पीछे वाले हिस्से से लेकर खोपड़ी के आधार तक का हिस्सा मेष द्वारा नियंत्रित होता है। यह मंगल को प्रतिबिंबित करता है जो दिमाग में अग्निमय ऊर्जा का स्रोत है। सूर्य, चंद्रमा या मेष का कोई अन्य उदीयमान ग्रह जिस व्यक्ति के साथ जुड़ा होगा उसके सरदर्द की संभावना अन्य लोगों की तुलना में अधिक होगी।
वैसे तो बदलती जीवन–चर्या भागदौड़ से भरा जीवन जैसे लगातार रहने वाला तनाव, हाई बी.पी. मानसिक या भावनात्मक आघात और स्नायु तंत्र की गड़बड़ी को भी माइग्रेन पेन की उत्पत्ति का कारण माना गया है।।  माइग्रेन एक प्रकार का सिरदर्द है, जिसमें पीड़ित व्यक्ति को रह-रहकर सिरदर्द के बहुत तेज अटैक पड़ते हैं। लोग समझते हैं कि माइग्रेन सिर्फ सिर के आधे हिस्से में होता है, लेकिन ऐसा नहीं है। माइग्रेन आधे, पूरे या सिर के किसी भी भाग में हो सकता है। लगभग चार में से एक महिलाएं और 12 में से एक पुरुष माइग्रेन की समस्या से जूझते हैं। अमेरिका में इस समस्या से लगभग 30 प्रतिशत लोग ग्रस्त हैं, जबकि भारत में इससे कहीं ज्यादा लोग माइग्रेन की समस्या से परेशान हैं। माइग्रेन एक प्रकार का दीर्घकालिक सिरदर्द है, जिसमें कई घंटों या कई दिनों तक तेज दर्द रह सकता है। इस दौरान सिरदर्द, जी मिचलाने, उल्टी, कानों का बजना, सुनने में तकलीफ जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।
अब ज्योतिषीय दृष्टि से देखें तो कुछ विशेष ग्रह और ग्रहयोगों माइग्रेन की समस्या उत्पन्न करते हैं।
  • पण्डित दयानन्द शास्त्री जी बताया कि ज्योतिषीय दृष्टि में चन्द्रमाँ को हमारे मन, मानसिक और भावनात्मक गतिविधियों मस्तिष्क में चलने वाले विचारों, मानसिक या भावनात्मक पीड़ा आदि का कारक माना गया है इसीलिए कुंडली में चन्द्रमाँ पीड़ित होने पर अक्सर ही व्यक्ति को स्ट्रेस और सिर दर्द की समस्या बनी रहती है अब विशेष बात यही है के माइग्रेन पेन की उत्पत्ति में भी पीड़ित चन्द्रमाँ का ही रोल होता है।।
  • कुंडली में जब चन्द्रमाँ बहुत पीड़ित और कमजोर स्थिति में होता है तो व्यक्ति को माइग्रेन की समस्या होने की संभावनाएं बहुत बढ़ जाती हैं।।
  • विशेष रूप से पीड़ित चन्द्रमाँ के कारण ही व्यक्ति को माइग्रेन की समस्या का सामना करना पड़ता है ।।
  • पण्डित दयानन्द शास्त्री जी के अनुसार यदि जन्म कुंडली में सूर्य पहले, दूसरे या बारहवें घर में विघ्नपूर्ण है या मंगल बहुत कमजोर है या नीच के चंद्रमा के साथ दाहक स्थिति में है तब ऐसे लोग अधकपारी सरदर्द (माइग्रेन) से पीड़ित होंगे। साथ ही यदि अनिष्टकर सूर्य या मंगल छठे घर में बैठा है (व्यक्ति की जन्म कुंडली में रोगों का द्योतक) तो व्यक्ति सरदर्द का शिकार होगा।
  • जन्मपत्री की कमजोरी और/या जन्मपत्री में उच्च स्थान पर बैठे अनिष्टकर देव के कारण एक रोगकारी परिस्थिति निर्मित होती है। इससे सरदर्द की संभावना बनती है। मजबूत सूर्य और मंगल, जो कि क्रमशः प्राण क्षमता और ऊर्जा के प्रतीक हैं, सुरक्षात्मक कवच प्रदान करते हैं।
  • इसके अलावा बुध क्योंकि मस्तिष्क और नर्वस सिस्टम को गवर्न करता है इसलिए बुध का पीड़ित स्थिति में होना भी इसमें अपनी सहायक भूमिका निभाता है।
  • जन्म कुंडली में यदि चन्द्रमाँ नीच राशि (वृश्चिक) में हो, राहु, केतु या शनि के साथ होने से पीड़ित हो चन्द्रमाँ पर राहु केतु या शनि की दृष्टि हो, चन्द्रमाँ कुंडली के छटे या आठवे भाव में हो, सूर्य से पूर्णअस्त हो, चन्द्रमाँ अष्टमेश और षष्टेश के साथ होने से पीड़ित हो तो ऐसे में अधिकांशतः ही व्यक्ति को माइग्रेन पेन की समस्या होती है तथा चन्द्रमाँ के अलावा यदि बुध भी पीड़ित होना नीचस्थ होना, छटे, आठवे होना अष्टमेश से पीड़ित होना  इस समस्या को तीव्र बना देता है।
  • यदि कुंडली में चन्द्रमाँ बहुत पीड़ित हो तो ऐसे में चन्द्रमाँ की दशा भी माइग्रेन की समस्या देती है।
  • पीड़ित चन्द्रमाँ पर बृहस्पति की दृष्टि होने पर यह विकट रूप नहीं लेती नियंत्रण में होती है तथ चिकित्सा से व्यक्ति को लाभ मिल जाता है।
  • माइग्रेन की समस्या में चिकित्सीय परामर्श और ट्रीटमेंट तो सर्वप्रथम है ही पर ज्योतिषीय दृष्टि से कुछ विशेष उपाय भी इस समस्या के समाधान में निश्चित ही सहायक होंगे।
  • चिकित्सकीय उपाय के साथ ज्योतिषीय उपाय सबसे बेहद प्रभावी उपायों मेंं से एक यह है कि सुबह उठकर सूर्य की ओर देखकर कम से कम 42 दिनों तक 3, 11, 21, 51 या 108बार ओम सूर्याय: नम: या ओम आदित्याय नम: या गायत्री मंत्र का जाप करें या सूर्य नमस्कार करें। इस प्रकार सरदर्द आपसे मीलों दूर चला जाता है।
  • मंगलवार को सूर्योदय के समय किसी चौराहे पर जाएं और एक टुकड़ा गुड़ को दांत से दो भागों मेंं बांट कर दो अलग-अलग दिशाओं मेंं फेंक दें। 5 सप्ताह लगातार यह क्रिया करें, माईग्रेन मेंं लाभ होगा।
  • रविवार के दिन 325 ग्राम दूध अपने सिरहाने रख कर सोएं। सोमवार को सुबह उठकर दूध को पीपल के पेड़ पर चढ़ा दें, 5 रविवार यह क्रिया करें, निश्चित लाभ होगा।

माइग्रेन (आधे सिर मेंं दर्द) रोग का इलाज करने के लिए प्रतिदिन ध्यान, शवासन, योगनिद्रा, प्राणायाम या फिर योगासन क्रिया करनी चाहिए। इसके फलस्वरूप यह रोग कुछ ही दिनों मेंं ठीक हो जाता है। इन उपाय से होगा लाभ –
  1. ॐ सोम सोमाय नमः का जाप करें।
  2. प्रत्येक सोमवार को गाय को बताशे खिलाएं।
  3. मस्तक पर सफ़ेद चन्दन का तिलक लगाएं।
  4. प्रतिदिन दूध और जल के मिश्रण से शिवलिंग का अभिषेक करें।
  5. किसी योग्य ज्योतिषी की सलाह के बाद यदि आपके लिए शुभ हो तो मोती धारण कर सकते हैं।
  6. प्रातः काल में उद्गीथ प्राणायाम (ॐ का धीर्घ उच्चारण) करें।
  7. महामृत्युंजय मन्त्र का यथा शक्ति जाप करें।

क्रोध, मंगल और ज्योतिष

क्रोध का मुख्य कारण अहंकार है। अगर हम क्रोध पर नियंत्रण चाहते हैं तो अहंकार को हमें सबसे पहले कुचलना होगा।   कुछ लोगों को गुस्से के बारे में भी ढेरों भ्रांतियां होती हैं। जैसे मैं गुस्सा करना छोड़ दूंगा तो मेरा रौब कम हो जाएगा या दूसरों की गलती का एहसास कराने के लिए, सबक सिखाने के लिए गुस्सा दिखाना जरूरी है। या सामने वाला व्यक्ति हर कदम पर हमारे साथ गलत व्यवहार कर रहा हो तो क्रोधित होकर प्रतिकार करना आवश्यक है। 
      यह क्रोध ही दुख का कारण है तथा अनन्त बार जन्म-मरण करवाता है। क्रोध कैसे आता है? अहम् पर चोट पडऩे से क्रोध आता है। अन्दर में यह जो अहंकार बैठा है, वही क्रोध का कारण है। अगर कुछ करना ही है तो इस अहंकार को कम करने की कोशिश करें, जीवन सुखमय हो सकता है।
     पण्डित दयानन्द शास्त्री के अनुसार ज्योतिषीय दृष्टि से देखा जाये तो क्रोध के मुख्य कारण मंगल, सूर्य, शनि, राहु तथा चंद्रमा होते हैं। सूर्य सहनशक्ति है तो मंगल अक्रामक और चंद्रमा शारीरिक और भावनात्मक जरूरतों का प्रतीक। पण्डित दयानन्द शास्त्री ने बताया यदि जन्मकुंडली में सूर्य और चंद्रमा, मंगल ग्रह एक-दूसरे के साथ किसी रूप में सम्बद्ध है तो व्यक्ति के अन्दर क्रोध अधिक रहता है। इसके अलावा मंगल शनि की युति क्रोध को जिद के रूप बदल देती है। राहु के लग्न, तीसरे अथवा द्वादश स्थान में होने पर काल्पनिक अहंकार के कारण अपने आप को बडा मानकर अंहकारी बनाता है जिससे क्रोध उत्पन्न हो सकता है।
क्रोध, मंगल और ज्योतिष      ज्योतिष में मंगल को क्रोध, वाद विवाद, लड़ाई झगड़ा, हथियार, दुर्घटना, एक्सीडेंट, अग्नि, विद्युत आदि का कारक ग्रह माना गया है तथा राहु को आकस्मिकता, आकस्मिक घटनाएं, शत्रु, षड़यंत्र, नकारात्मक ऊर्जा, तामसिकता, बुरे विचार, छल, और बुरी आदतों का कारक ग्रह माना गया है, इसलिए फलित ज्योतिष में मंगल और राहु के योग को बहुत नकारात्मक और उठापटक कराने वाला योग माना गया है ।
         गीता में भगवान श्री कृष्ण कहते हैं कि मनुष्य को अपने क्रोध पर नियंत्रण रखना बहुत आवश्यक हैं क्योंकि क्रोध से भ्रम पैदा होता है, भ्रम से बुद्धि का नाश होता हैं जब बुद्धि का नाश हो जाता है तो मनुष्य का सर्वनाश हो जाता है । ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री जी ने बताया कि मंगल और राहु स्वतंत्र रूप से अलग अलग इतने नाकारात्मक नहीं होते पर जब मंगल और राहु का योग होता है तो इससे मंगल और राहु की नकारात्मक प्रचंडता बहुत बढ़ जाती है जिस कारण यह योग विध्वंसकारी प्रभाव दिखाता है, मंगल राहु का योग प्राकृतिक और सामाजिक उठापटक की स्थिति तो बनाता ही है पर व्यक्तिगत रूप से भी मंगल राहु का योग नकारात्मक परिणाम देने वाला ही होता है।
       ज्योतिष में लग्न भाव यानि प्रथम भाव को स्वभाव और शारीरिक बनावट का कारक माना जाता है। दूसरा भाव धन और वाणी का और पंचम भाव बुद्धि का होने से मनुष्य के व्यवहार को प्रभावित करता है। इन तीनों भावों से व्यक्ति के सवभाव को देखा जाता है। चन्द्रमा, बुध और मंगल के कारण मन, वाणी, और क्रोध पर नियंत्रण नहीं रहता। अगर कुण्डली में मंगल, चन्द्रमा और बुध ग्रह नीच राशि ने हों या इन पर राहु और सूर्य की क्रूर दृस्टि हो तो अनियंत्रित क्रोध जातक में होता है।
       मंगल कुण्डली के प्रथम, तीसरे ,चतृर्थ, पंचम या अस्टम भाव में हो तो व्यक्ति में क्रोध की अधिकता होती है। 
मंगल इन भावो में नीच राशि में हो तो  व्यक्ति को ज्यादा क्रोधित सवभाव का बनाता है।  सूर्य-मंगल, गुरु-मंगल,मंगल-बुध,मंगल-शनि, बुध-शनि, गुरु राहु , राहु-चन्द्रमा, शनि चन्द्रमा का कुण्डली में इकठे होना भी क जातक में क्रोध को बढ़ाता है।
        पण्डित दयानन्द शास्त्री जी के अनुसार यदि जन्मकुंडली में मंगल और राहु एक साथ हो अर्थात कुंडली में मंगल राहु का योग हो तो सर्वप्रथम तो कुंडली के जिस भाव में यह योग बन रहा हो उस भाव को पीड़ित करता है और उस भाव से नियंत्रित होने वाले घटकों में संघर्ष की स्थिति बनी रहती है उदाहरण के लिए यदि कुंडली के लग्न भाव में मंगल राहु का योग हो तो ऐसे में स्वास्थ पक्ष की और से हमेशा कोई न कोई समस्या लगी रहेगी, धन भाव में मंगल राहु का योग होने पर आर्थिक संघर्ष और क़ुतुब के सुख में कमी होगी इसी प्रकार पंचम भाव में मंगल राहु का योग शिक्षा और संतान पक्ष को बाधित करेगा।
      इसके अलावा कुंडली में मंगल राहु का योग होने से व्यक्ति का क्रोध विध्वंसकारी होता है, समान्य रूप से तो प्रत्येक व्यक्ति को क्रोध आता है पर कुंडली में राहु मंगल का योग होने पर व्यक्ति का क्रोध बहुत प्रचंड स्थिति में होता है और व्यक्ति अपने क्रोध पर नियंत्रण नहीं कर पाता और बहुत बार क्रोध में बड़े गलत कदम उठा बैठता है, कुंडली में मंगल राहु का योग होने पर जीवन में दुर्घटनाओं की अधिकता होती है और कई बार दुर्घटना या एक्सीडेंट का सामना करना पड़ता है।।
      कुंडली में मंगल राहु का योग होने पर व्यक्ति को वहां चलाने में भी सावधानी बरतनी चाहिए , कुंडली में मंगल राहु का योग होने पर व्यक्ति को शत्रु और विरोधियों की और से भी बहुत समस्याएं रहती है और जीवन में वाद विवाद तथा झगड़ों की अधिकता होती है, कुंडली में मंगल राहु का योग बड़े भाई के सुख में कमी या वैचारिक मतभेद उत्पन्न करता है और मंगल राहु के योग के नकारात्मक परिणाम के कारण ही व्यक्ति को जीवन में कर्ज की समस्या का भी सामना करना पड़ता है, इसके अलावा यदि स्त्री जातक की कुंडली में मंगल राहु का योग हो तो वैवाहिक जीवन को बिगड़ता है स्त्री की कुंडली में मंगल पति और मांगल्य का प्रतिनिधि ग्रह होता है और राहु से पीड़ित होने के कारण ऐसे में पति सुख में कमी या वैवाहिक जीवन में संघर्ष की स्थिति बनी रहती है।
     जिन लोगो की कुंडली में मंगल राहु का योग होता है उन्हें अक्सर जमीन जायदात से जुडी समस्याएं भी परेशान करती हैं इसके अलावा मंगल राहु का योग हाई बी.पी. मांसपेशियों की समस्या, एसिडिटी, अग्नि और विद्युत दुर्घटना जैसी समस्याएं भी उत्पन्न करता है. यदि किसी जातक को गुस्सा अधिक आता है तो उसे ईश्वर का नाम लेना शुरू कर देना चाहिए, ईश्वर के नाम लेने से गुस्सा अवश्य ही शांत हो जाता है। इसके अलावा क्रोध किस कारण आता है, इस बात की सलाह भी ज्योतिषी से लेना उचित होता है, क्योंकि यदि कुंडली में कोई ग्रह योग ऐसी स्थिति निर्मित कर रहा है तो उसका निदान किया जा सकता है।

तो यहाँ हमने देखा की मंगल और राहु का योग किस प्रकार की समस्याएं उत्पन्न करता है यदि कुंडली में मंगल राहु के योग के कारण समस्याएं उत्पन्न हो रही हो तो निम्नलिखित उपाय लाभकारी होंगें---
  • ॐ अंग अंगारकाय नमः का नियमित जाप करें। 
  • हनुमान चालीसा का पाठ करें। 
  • प्रत्येक शनिवार को साबुत उडद का दान करें। 
  • प्रत्येक मंगलवार को गाय को गुड़ खिलाएं। 
  • प्रतिदिन मस्तक पर सफ़ेद चन्दन का तिलक लगाएं।
  • उपाय के तोर पर चांदी का बेजोड़ छला या कडा धारण सोमवार को करने से क्रोध में कमी आती है।
  • ॐ सौं सोमाये नमः और ॐ भोम भोमाये नमः का जप करने या करवाने से क्रोध पर काबू पाया जा सकता है।
  • चांदी के गिलास में पानी और दूध का सेवन करें।
  • बड़े बजुर्गों के चरण स्पर्श करना और उनसे आशीर्वाद लेना क्रोध की शांति के लिए रामबाण है।
  • योग्य एवम अनुभवी ज्योतिषाचार्य से परामर्श कर के ताम्बे में मूंगा या चांदी में साउथ सी मोती धारण करना चाहिए।
  • मंगलवार को आठ मीठी रोटी कोयों को या कुत्तों को डालनी चाहिए।
  • अभिमंत्रित मंगल यंत्र पास रखने से तत्काल लाभ होता है।

क्रोध निवारण में वास्तु का योगदान/उपयोग--
क्रोध इंसान की प्रगति का बहुत बड़ा दुश्मन है। अपने गुस्से की वजह से इंसान बड़े-बड़े नुकसान कर डालता है। क्रोध के कारण उसकी सामाजिक क्षति तो होती ही है वो रिश्तों और पैसों से भी हाथ धो बैठता है। क्रोध को शांत करने के लिए वास्तुशास्त्र में भी कुछ उपाय बताए गए हैं जिन्हें अपनाकर आप अपने क्रोध को नियंत्रण में रख सकते हैं।
उपाय निम्नलिखित है...
  • वास्तुशास्त्र के अनुसार अपने घर के किसी भी कोने में गंदगी ना रखें क्योंकि गंदगी क्रोध को उकसाती है।
  • पूर्व दिशा में कोई भारी सामान ना रखें। शाम होते ही घर में धूप बत्ती या अगरबत्ती को जलायें।
  • वास्तुशास्त्र के अनुसार क्रोध को शांत रखने के लिए रोज सूर्य भगवान को जल अर्पित करें। इससे मन में सकारात्मक ऊर्जा का वास होता है और क्रोध जैसी नकारात्मक ऊर्जा आपसे दूर रहती है।
  • वास्तुशास्त्र के अनुसार घर में लाल रंग का प्रयोग ना करें, घर में ना तो पेंट लाल हो और ना ही चादरें और पर्दे लाल रंग के हों।

क्रोध (गुस्से) से होने वाली हानियाँ (नुकसान)—
  • यदि कोई व्यक्ति लगातार गुस्सा करता है तो उसे सर दर्द की शिकायत हो सकती है क्यूंकि गुस्सा करने से सर मे ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित होती है।।
  • ये क्रोध व्यक्ति को अवसादग्रस्त भी कर सकता है।।
  • क्रोध करने वालों को हाई ब्लड प्रेशर की बिमारी भी हो सकती है ।।
  • क्रोधी लोगों को मधुमेह (डाइबिटीज) होने का खतरा बढ़ जाता है ।।
  • क्रोध करने वालों की फेफड़ो की कार्य क्षमता भी प्रभावित होती है ।।
  • कुछ लोगो को सांस लेने मे भी समस्या होने लगती है।।
  • क्रोध करने वाले कुछ लोग पाचन तंत्र की समस्या से ग्रस्त हो जाते है ।।
  • गुस्सेल लोगो को नींद आने मे भी समस्या होने लगती है.
  • गुस्सा आदमी को जुर्म की दुनिया मे भी घुसा देता है.

वास्तव मे देखा जाए तो गुस्से से व्यक्ति खुद को ही सजा देता है. अतः ये जरुरी है की हम अपने क्रोध पर नियंत्रण करे ।।
इन उपायों से/सावधानी से भी होता है क्रोध/गुस्सा शान्त/नियंत्रण---
  1. दो पके मीठे सेब बिना छीले प्रातः खाली पेट चबा-चबाकर पन्द्रह दिन लगातार खाने से गुस्सा शान्त होता है। बर्तन फैंकने वाला, तोड़ फोड़ करने वाला और पत्नि और बच्चों पर हाथ उठाने वाला व्यक्ति भी अपने क्रोध से मुक्ति पा सकेगा। इसके सेवन से दिमाग की कमजोरी दूर होती है और स्मरण शक्ति भी बढ़ जाती है।
  2. प्रतिदिन प्रातः काल आंवले का एक पीस मुरब्बा खायें और शाम को एक चम्मच गुलकंद खाकर ऊपर से दुध पी लें। बहुत क्रोध आना शीघ्र ही बन्द होगा।
  3. गुस्सा आने पर दो तीन गिलास खूब ठंडा पानी धीरे धीरे घूँट घूँट लेकर पिएं । पानी हमारेशारीरिक तनाव को कम करके क्रोध शांत करने में मददगार होता है।
  4. यदि गुस्सा बहुत आता हो तो धरती माता को रोज सुबह उठकर हाथ से पाँच बार छूकर प्रणाम करें और सबसे विशाल ह्रदय धरती माँ से अपने गुस्से पर काबू करने और सहनशील होने का  मागें।
  5. हमेशा याद रखे की गुस्सा हमारे लिए हानिकारक है, अतः इसे छोड़ना चाहिए।।
  6. जब भी गुस्सा आने लगे तो लम्बी साँसे लेने लग जाए कुछ देर तक।।
  7. रोज सुबह शाम ध्यान करे और व्यायाम भी करे।।
  8. मंत्र जाप और सूर्य नमस्कार:— शारीरिक और मानसिक दोनों कमजोरियों पर विजय पाने के लिए मंत्रजाप और सूर्य नमस्कार अचूक अस्त्र हैं, इन्हें प्रमाणित करने की भी आवश्यकता नहीं है। सूर्य नमस्कार, हमारे आत्मविश्वास, आरोग्य को बढ़ाने में सहायक होता है। मंत्रजाप मन की शक्ति को बढ़ाता है और निरंतर अभ्यास से एकाग्रता और धैर्य बढ़ता है।।
  9. रोज सुबह हरी घास पे चलना चाहिए नंगे पाँव।।
  10. अगर कुंडली मे ग्रह खराब हो तो किसी अच्छे ज्योतिष से संपर्क करके उसके उपाय करने चाहिए।।
  11. अच्छे और सकारात्मक विचारों को पढ़ना चाहिए।।
  12. ॐ का जप भी बहुत लाभदायक रहता है।।
  13. पलाश के छोटे छोटे पत्तों की सब्जी खाने से गुस्सा, और पित्त जल्दी ही शांत होता है ।
  14. रविवार को अदरक, टमाटर और लाल रंग के कपड़े गुस्सा अधिक बढ़ाते हैं अत: इनका कम से कम प्रयोग करें ।
  15. ऐसे लोगो को हरड़ का प्रयोग लाभदायक रहता है  ।
  16. गर्म चीज़ो का इस्तामाल कम करना चाहिए ।
  17. दूध छाछ का सेवन करना चाहिए  ।
  18. आंवला और शह्द का इस्तामाल करे  ।
  19. तला और मिर्च मसाला वाला भोजन ना करे ।
  20. पानी ज़्यादा पिए
  21. गाय को रोटी दे ।
  22. चंदन का टीका लगाए ।
  23. आर्गला स्त्रोत का पाठ करे ।
  24. आपके परिवार में जिनको गुस्सा बहुत आता हो, बात- बात में चिढ़ जाते हो वे लोग सोमवार का उपवास करें, या एक समय भोजन करें। रात कों चन्द्रमा कों अर्घ दें तथा अपने गुस्से पर विजय प्राप्त करने के लिए प्रार्थना करें । इससे भी मन शान्त रहता है, गुस्से पर नियंत्रण रहता है।
  25. भोजन में बहुत अधिक खट्टी, तीखी, मसालेदार चीजें खाने से आँखें जलती हैं, स्वभाव में चिड़चिड़ापन आता है, शीघ्र गुस्सा आता है, अकारण ही सीने और पेट में जलन होती है अत: इन चीजों का बिलकुल त्याग कर देना चाहिए ।
  26. यदि घर के किसी व्यक्ति को बात-बात पर गुस्सा आता हो, तो दक्षिणावर्ती शंख को साफ कर उसमें जल भरकर उसे पिला दें। यदि परिवार में पुरुष सदस्यों के कारण आपस में तनाव रहता हो, तो पूर्णिमा के दिन कदंब वृक्ष की सात अखंड पत्तों वाली डाली लाकर घर में रखें। अगली पूर्णिमा को पुरानी डाली कदंब वृक्ष के पास छोड़ आएं और नई डाली लाकर रखें। यह क्रिया इसी तरह करते रहें, तनाव कम होगा।
  27. भोजन को चबा-चबाकर शांति से खायें।
  28. जब भी क्रोध आए तो उस वक्त अपना चेहरा आइने में देखने से भी लज्जावश गुस्सा चला जाएगा।
  29. एक कटोरी में पानी भरकर उस पानी को देखकर ऊॅ शांति…….ऊॅ शांति…….ऊॅ शांति का मंत्र 21 बार जप करें और बाद में इस पानी को पी लें। एैसा करने से आपके क्रोधी स्वभाव में परिवर्तन आएगा।
  30. चांदी के गिलास में जल व दूध का सेंवन करें।
  31. 11 बार हनुमान चालीसा का पाठ करें।
  32. गणेश स्त्रोत का नियमित पाठ करें।
  33. रोज सुबह उठकर अपने बड़ों के चरण स्पर्श करें।
  34. रोज सुबह सूर्य को जल अर्पित करें।
  35. सूर्य के सामने गायत्री मंत्र का जाप करें।

जानिए कैसे पाएं क्रोध/झुंझलाहट और चिड़चिड़ेपन से छुटकारा--
अत्‍यधिक क्रोध के अलावा अक्‍सर हम छोटी-छोटी बातों को लेकर झुंझलाहट भी दिखाने लगते हैं। 
वेदों को दुनिया की सबसे प्राचीन लिखित सामग्री माना गया है। इन्‍हीं वेदों में छिपा है दुनिया के हर मसले का वैज्ञानिक हल। दरअसल भगवान शिव के पुत्र और प्रथमपूज्‍य भगवान गणेश ने समूची मानव जाति को क्रोध पर नियंत्रण करने का रहस्‍य बताया है। भगवान गणेश के बताए वैदिक मंत्र के द्वारा कोई भी इंसान अपने क्रोध पर पूर्ण नियंत्रण प्राप्‍त कर सकता है। 

"ॐ गतक्रोधाय नम: "

वैदिक विधान के अनुसार इस अचूक मंत्र का प्रतिदिन 108 बार पांच मालाओं में (108x5) जप करना चाहिए। दरअसल प्राचीन ऋषि और आधुनिक विज्ञान का भी यही मानना है कि मस्‍तिष्‍क की तंत्रिकाओं के जरिए गुस्‍से पर ना सिर्फ काबू पाया जा सकता है बल्‍कि अपनी खुशियों को बढ़ाया भी जा सकता है। महर्षि वेदव्‍यास ने अपने महान ग्रंथ "महाभारत" में क्रोध नियंत्रण पर बहुत कुछ लिखा हैं। 

इसमें कलिपुरुष (कलियुग) द्वारा राजा नल को वरदान देते हुए जो बातें कहीं उन्‍हें प्रतिदिन 108 बार मनन करने से झुंझलाहट और चिड़चिड़ेपन से निजात मिलती है। 

कर्कोटस्य नागस्य दमयन्त्या नलस्य च। ऋतुपर्णस्य राजर्षे: कीर्तनं कलिनाशनम्।।

क्रोध पर काबू पाने का विष्‍णु मंत्र--- 

ॐ शांताकाराय नम: 
वैदिक शांति मंत्र 

ॐ ॐ पूर्णमद: पूर्णमिदं: पूर्णात्‍पूर्णमुदच्‍यते, पूर्णस्‍य पूर्णमादाय पुर्णमेवावशिष्‍यते, ॐ शान्‍ति: शान्‍ति: शान्‍ति: 

उपरोक्‍त मंत्र का प्रतिदिन 21 बार जप करने से लाभ निश्‍चित है। यह भी ध्‍यान रखें कि मंत्रों को पूरी शुद्धता के साथ ही पढ़ें।
अहंकार (क्रोध) शान्ति हेतु  विधि पूर्वक नकुल मंत्र का जाप कराना चाहिए या स्वयं करना चाहिए–
जिस प्रकार नकुल ने अहि का विच्छेद करके सत्य का रूप धारण किया था उसी प्रकार आप अपने जीवन में मधुरता की कामना से नकुल मंत्र का जाप करें या करवाएं।
-‘‘ यथा नकुलो विच्छिद्य संदधात्यहिं पुनः। एवं कामस्य विच्छिन्नं स धेहि वो यादितिः।।
का जाप दुर्गादेवी के षोडषोपचार पूजन के उपरांत विधिवत् संकल्प लेकर इस मंत्र का जाप करने से रिश्तों की समस्त विषमताएं समाप्त होकर जीवन में सुख प्राप्त होता है।
========================================================
  1.  वे सभी जातक जिन्हे ज्यादा गुस्सा आता हो उन्हें चाय, काफी, मदिरा से परहेज करना चाहिए ये शरीर को उत्तेजित करते है उसके स्थान पर छाछ, मीठा दूध या नींबू पानी का प्रयोग करना चाहिए ।
  2. किसी को यदि गुस्सा आने वाला हो तो 5-6 बार गहरी गहरी साँस लीजिए, कुछ पलों के लिए अपनी आँखे बंद करके ईश्वर का ध्यान करें उन्हें प्रणाम करें उनसे अपना कोई भी निवेदन करें। यह गुस्सा कम करने का सबसे बढ़िया तरीका है। इससे आप भड़कने से पहले ही निश्चित रूप से शांत हो जाएँगे।
  3. अपने घर के किसी भी कोने में गंदगी ना रखें क्योंकि गंदगी क्रोध को उकसाती है।
  4. पूर्व दिशा में कोई भारी सामान ना रखें।
  5. शाम होते ही अपने घर, दुकान या ऑफिस में धूप बत्ती को जलाकर वहां का वातावरण सुगन्धित रखें।
  6. जिस स्त्री का पति हर समय बिना बात के ही गुस्सा करता रहता है तो वह स्त्री शुक्ल पक्ष के प्रथम रविवार, सोमवार, गुरुवार या शुक्रवार किसी भी दिन एक नए सफेद कपड़े में एक डली गुड़, चांदी एवं तांबे के दो सिक्के, एक मुट्ठी नमक व गेहूं को बांधकर अपने शयनकक्ष में कहीं ऐसी जगह छिपा कर रख दें जहाँ पति को पता न चले । इसके प्रभाव से भी पति का गुस्सा धीरे-धीरे कम होने लगेगा।

किसी ने बिल्कुल सटीक कहा है कि अपने भीतर से अहंकार को निकालकर खुद को हल्का कीजिए क्योंकि ऊंचा वही उठता है जो हल्का होता है। अगर आप अपनी खूबियों और तरक्की को ताउम्र बरकरार रखना चाहते हैं तो अहंकार से दूर ही रहिए। अपनी तरक्की और सुख के लिए ईश्वर को धन्यवाद करते रहें। अहंकार के राक्षस से बचने का यही सबसे कारगर रास्ता है।

जन्म कुंडली के ऐसे योग देते हैं शेयर मार्केट में लाभ

आजकल शेयर मार्किट एक ऐसा विषय है जिसकी और हर एक व्यक्ति आकर्षित होता है और इसे धनलाभ अर्जित करने के लिए एक सुनहरे मार्ग के रूप में देखा जाने लगा है और अधिकांश व्यक्ति अपने पास उपस्थित धन का कुछ ना कुछ भाग शेयर मार्किट में इन्वेस्ट करने के इच्छुक होते ही हैं, पर सभी व्यक्तियों को इस क्षेत्र से लाभ प्राप्त होता ही हो ऐसा नहीं है, जहाँ बहुत से लोग शेयर में अपना धन इन्वेस्ट करके बड़ा लाभ कमाते हैं तो बहुत से व्यक्तियों को भारी नुकसान का भी सामना करना पड़ता है ।।
    ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री जी ने इस विषय ओर जानकारी देते हुए बताया कि ज्योतिषीय दृष्टि में प्रत्येक व्यक्ति की जन्मकुंडली में ग्रह स्थिति भिन्न-भिन्न होती है इसलिए जिस कार्य में एक व्यक्ति उन्नति कर रहा है दूसरा भी उसमे सफल हो ऐसा आवश्यक नहीं है इसी प्रकार शेयर मार्किट का क्षेत्र किसी व्यक्ति के लिए लाभदायक होगा या नहीं यह पूरी तरह उसकी कुंडली में बनी ग्रह स्थिति पर निर्भर करता है।
जन्म कुंडली के ऐसे योग देते हैं शेयर मार्केट में लाभ-Giving-such-sum-couples-benefits-in-the-share-market      उनके अनुसार जन्म कुंडली में निम्न ग्रह योग शेयर मार्किट से लाभ कराने में अपनी भूमिका निभाते हैं।ज्योतिष में शेयर मार्किट के लिए सीधे सीधे किसी एक ग्रह की भूमिका न होकर कुंडली के “पंचम भाव” को सर्वाधिक महत्व दिया गया है।पण्डित दयानन्द शास्त्री जी के मुताबिक  जन्मकुंडली के पंचम भाव को शेयर, लॉट्री या स्पेकुलेशन आदि का कारक भाव माना गया है इसलिए शेयर मार्किट से जुड़ने या लाभ प्राप्त करने में सबसे पहले तो कुंडली के पंचम भाव और पंचमेश का शुभ स्थिति में होना आवश्यक है। 
         इसके बाद लाभ स्थान अर्थात कुंडली के ग्यारहवे भाव की भी यहाँ महत्वपूर्ण भूमिका है क्योंकि किसी भी प्रकार से इन्वेस्ट किये गए धन से आपको लाभ प्राप्त हो पायेगा या नहीं या किस स्तर का लाभ जीवन में होगा यह लाभ स्थान और लाभेश की स्थिति पर निर्भर करता है।इस स्थान पर  शुक्र धन और विलासिता का कारक होने से यहाँ अपनी सहायक भूमिका निभाता है। इसी प्रकार राहु को आकस्मिक कार्य या झटके के कार्यों का कारक होने से राहुकी भी यहाँ सहायक भूमिका होती है, अतः निष्कर्षतः कुंडली में पंचम भावऔर पंचमेश बली स्थिति में होने पर शेयर–मार्केट से शुभ परिणाम प्राप्त होते हैं ।इसके अलावा लाभ स्थान, लाभेश  और शुक्र जितनी अच्छी और मजबूत स्थिति में होंगे उतना ही अच्छी मात्रा में व्यक्ति को लाभ होता है।
ये हैं शेयर-मार्किट में लाभ (सफलता) के कुछ विशेष ग्रहयोग –
  1. यदि कुंडली में पंचमेश पंचम भाव में ही स्थित हो तो शेयर मार्किट से जुड़कर लाभ प्राप्त होता है।
  2. पण्डित दयानन्द शास्त्री के अनुसार यदि पंचमेश (पंचम भाव का स्वामी) स्व या उच्च राशि में होकर शुभ स्थान में हो तो शेयर मार्किट में लाभ प्राप्त होता है।
  3. राहु और चंद्रमा शेयर मार्केट  नुकसान के कारक हैं तो गुरु और बुध फायदे के कारक ग्रह माने जाते हैं।
  4. ध्यान रखें, ग्रहों का उदय और अस्त शेयर मार्केट पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है। वहीं ग्रहण का भी शेयर मार्केट पर भी असर पड़ता है।
  5. यदि बली पंचमेश की पंचम भाव पर दृष्टि हो तो यह भी शेयर मार्केट में सफलता दिलाता है।
  6. पंचमेश का दशम या एकादश भावमें होना भी शेयर मार्किट से जुड़कर लाभ कराता है।
  7. यदि पंचमेश दशम भाव में औरदशमेश पंचम भाव में हो तो शेयर मार्किट से जुड़कर व्यक्ति लाभ प्राप्त करता है।
  8. किसी भी जातक की जन्म कुंडली में गुरु के मजबूत होने पर कमोडिटी मार्केट में मुनाफा होता है। बुध के शुभ प्रभाव में जातक शेयर मार्केट सलाहकार बनता है या शेयर मार्केट में अच्छा बिजनेस करता है।
  9. यदि जन्म कुंडली में सूर्य और राहु, राहु और चंद्रमा या बृ‍हस्पति और राहु की युति हो तो जातक को शेयर मार्केट  से दूर ही रहना चाहिए। दूसरे भाव में राहु हो तो शेयर मार्केट से दूर रहें।
  10. यदि जन्म कुंडली  में केंद्र में राहु हो तो जातक शेयर मार्केट में तो सफल होता है लेकिन किसी भी तरह से उस पर गरीबी छा जाती है।
  11. पण्डित दयानन्द शास्त्री जी ने बताया कि यदि जन्म कुण्डली के पंचमेश लाभ स्थान (ग्यारहवा भाव) में और लाभेश पंचम भाव में हो तो व्यक्ति शेयर मार्किट से बहुत लाभकमाता है।
  12. पंचमेश और धनेश का राशि परिवर्तन भी शेयर मार्किट में अच्छे परिणाम दिलाता है।
  13. यदि लाभेश लाभ स्थान में हो या लाभेश की लाभ स्थान पर दृष्टि हो तथा पंचमेश और पंचम भाव शुभ स्थिति में हों तो भी शेयर मार्किट में अच्छा लाभ मिलता है।
  14. जब जन्म कुण्डली में पंचमेश का लाभेश या दशमेश के साथ केंद्र – त्रिकोण में होना भी इस क्षेत्र से लाभ कराता है।
  15. ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री जी के अनुसार किसी जन्म कुंडली में भाग्येश और पंचमेश का राशि परिवर्तन भी शेयर मार्किट के लिएअच्छा योग है।राहु का लाभ स्थान (ग्यारहवा भाव) में होना शेयर मार्किट के क्षेत्र के लिए सहायक होता है पर पंचम भावऔर पंचमेश शुभ स्थिति में होने चाहियें।
  16. यदि शुक्र स्व या उच्च राशि में हो तथा पंचमेश शुभ स्थान (केंद्र–त्रिकोण) में हो तो यह भी शेयर मार्किट में अच्छी सफलता दिलाता है।
  17. जब जन्म कुंडली में राहु का उच्च राशि में होकर शुभ स्थान में बैठना भी व्यक्ति को आकस्मिक निर्णय लेने की अच्छी क्षमता देकर शेयर मार्किट के क्षेत्र में सहायक होता है।राहु शुभ भाव में हो कुंडली के शुभकारक ग्रहों के प्रभाव में हो तथा किसी ग्रह के साथ कोई दुर्योग न बना रहा हो तो भी इस क्षेत्र के लिए सहायक होता है।

विशेष – जैसा की हमने यहाँ देखा के कुंडली का पंचम भाव शेयर मार्किट के कार्य में अपनी अहम भूमिका निभाता है और लाभ स्थान व लाभेश की स्थिति होने वाले लाभ का स्तर तय करती है तो यहाँ विशेष बात यही है के पंचम भाव और पंचमेश बली होने पर भी आपकी पूरी कुंडली की स्ट्रैन्थ कितनी है यह बात संपूर्ण सफलता को निश्चित करती है अर्थात पंचम भाव और पंचमेश तो बहुत लोगो की कुंडली में बलि हो सकते हैं पर हर व्यक्ति की कुंडली में बने बाकि अच्छे या कमजोर ग्रहयोग प्रत्येक व्यक्ति को भिन्न स्तरकी सफलता देते हैं।  कुंडली में पंचम भाव, पंचमेश व लाभ स्थान शुभ स्थिति में होने पर जो ग्रह कुंडली में बहुत बलवान और अच्छी स्थिति में होउन से सम्बंधित वस्तुओं पर निवेश करना अच्छा होता है।
      पण्डित दयानन्द शास्त्री जी ने इस विषय पर समझाते हुए बताया कि वैदिक ज्योतिष के अनुसार जिन लोगों को राहु अनुकूल चल रहा होता है या जिन पर राहु की महादशा होती है, उन्हीं को इन धंधों से लाभ होता है। राहु के साथ साथ ही कुण्डली में मौजूद धनेश-एकादशेश, लग्नेश, चतुर्थेश, पंचमेश, भाग्येश यानि नवमेश की स्थिति भी मजबूत हो, तो ही व्यक्ति इन धंधों से जिंदगी भर कमा सकता है, फिर चाहे उस आदमी को सट्टे, लॉटरी या शेयर मार्केट की ए बी सी डी भी मालूम न हो। 
ये ग्रह-गोचर भी देते हैं शेयर मार्केट में लाभ
यदि लग्नेश, नवमेश, दशमेश, एकादशेश अथवा चतुर्थेश व पंचमेश की दशा-अंतरदशा चल रही हो, संबंधित स्वामी ग्रहों की स्थिति मजबूत हो, ग्रह उच्च के हों, गोचर भी अनुकूल हो, शनि की साढ़ेसाती या ढैया की स्थिति न हो, क्रूर व पापी ग्रहों का संयोग न उपस्थित हो या फिर चंद्रमा बली हो तो ऐसी कुण्डली वाले लोग सट्टा, लाटरी, शेयर मार्केट, जुए आदि में बहुत जल्दी अथाह धन कमाने में सफल रहते हैं। इसके अलावा यदि जातक की जन्म कुण्डली में अष्टम भाव बेहद मजबूत हो तो भी सट्टा, लाटरी, शेयर आदि में अच्छा लाभ कमाने का योग बनता है। यही नहीं जिसकी कुंडली में अष्टम भाव मजबूत होता है तो वह विरासती संपत्ति में जमीन-जायदाद भी प्राप्त करता है।

“जिन लोगो की कुंडली में पंचमेश नीच राशि मे हो, छटे, आठवे या बारहवे भावमे हो, पंचम भाव में पाप योग बन रहे हों, लाभेश पाप भाव में हो या लाभ स्थान और लाभेश पीड़ित हों उन्हें शेयर मार्किट में इन्वेस्ट नहीं करना चाहिए ऐसे में हानि की अधिक सम्भावनाहोती है।” इसके अतिरिक्त कुंडली में चल रही ग्रह दशायें और गोचर ग्रह,वर्तमान में लाभ या हानि को निश्चित करते हैं इसलिए किसी योग्य ज्योतिषी से परामर्श के बाद ही इस क्षेत्र भाग्य आजमाएं।
ध्यान रखें --
सट्टा, जुआ, लॉटरी, शेयर मार्केट ये सभी ज्योतिष में राहू के अधीन माने जाते हैं। सट्टा, लॉटरी, शेयर मार्केट, कमोडिटी बाजार ये सभी राहु के ही कर्मक्षेत्र हैं। अतः सबसे पहले हमें यह समझ लेना चाहिए कि सट्टा, लॉटरी, शेयर मार्केट या कमोडिटी बाजार में लाभ-हानि का गणित केवल बाजार के अनुसार नहीं चलता। इसका सबसे अधिक संबंध व्यक्ति विशेष की किस्मत से है। यही कारण है कि जब मंदी के दौर में पूरी दुनिया डूब रही होती है, कुछ लोग उस निराश माहौल में भी कमा कर करोड़पति बन जाते हैं।
इन उपाय से हो सकता हैं लाभ---
  • – यदि आप भी शेयर मार्केट में किस्मत आज़माना चाहते हैं तो पन्ना रत्न इसमें आपकी मदद कर सकता है। किसी अनुभवी ज्योतिषी से परामर्श लेकर ही धारण करें।
  • – सुबह-शाम राहु के मंत्र का जाप करें।
  • – बुधवार और शुक्रवार के दिन मछलियों को आटे की गोलियां बनाकर खिलाएं।
  • – अपने साथ नीले रंग का चमकीला रुमाल रखें।
Ads By Google info

वास्तु

हस्त रेखा

ज्योतिष

फिटनेस मंत्र

चालीसा / स्त्रोत

तंत्र मंत्र

निदान

ऐसा क्यों

धार्मिक स्थल

 
Copyright © Asha News