ताजा खबरें
Loading...

अनमोल विचार

सर्वाधिक पड़े गए लेख

Subscribe Email

नए लेख आपके ईमेल पर


महामृत्युञ्जय कवच लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
महामृत्युञ्जय कवच लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

दुनिया का सबसे अनोखा 1001 छिद्र वाला शिवलिंग है यहां

    रीवा: महामृत्युंजय! जिनके नाम लेने मात्र से मौत भी कांप जाती है। शिव रूप में भगवान महामृत्युंजय का मंदिर मध्य प्रदेश के रीवा जिले में है। रीवा रियासत के किला परिसर में स्थित है। यह दुनिया का इकलौता मंदिर है। जहां 1001 छिद्र वाला सफेद रंग का शिवलिंग है। जिसकी खासियत है कि मौसम के साथ रंग बदल जाता है। कहा जाता है रीवा रियासत की स्थापना के पीछे महामृत्युंजय की अलौकिक शक्ति है। 
एक रोचक प्रसंग है
 बांधवगढ़ से राजा शिकार के लिए आए थे। शिकार के दौरान राजा ने देखा कि एक शेर चीतल को दौड़ा रहा है। जब वह मंदिर वाले स्थान के समीप आया तो शेर चीतल का शिकार किए बगैर भाग गया। राजा यह देखकर हैरत में पड़ गए। राजा ने उस स्थान पर खुदाई कराई। गर्भ में महामृत्युंजय भगवान का सफेद शिवलिंग निकला। जहां मंदिर का निर्माण कराकर पूजा-अर्चना शुरू हो गई। वैसे तो प्रदेश में महाकालेश्वर और मंडलेश्वर मंदिर प्रसिद्ध हैं लेकिन दुनिया का यह एकमात्र मंदिर है जहां भगवान भोलेनाथ के दर्शन महामृत्युंजय के रूप में होते हैं। शिव पुराण में सफेद शिवलिंग का जिक्र महामृत्युंजय मंत्र के जाप से अकाल मृत्यु टल जाती है। ऐसा मानते हैं। सुख-संपत्ति की प्राप्ति होती है। महामृत्युंजय मंदिर के निर्माण और मूर्ति स्थापना का वैसे कोई लिखित इतिहास नहीं है लेकिन महामृत्युजंय मंत्र का शिव पुराण में उल्लेख मिलता है।
 एक मान्यता ऐसी भी... 
लोक मान्यता है कि अगर एक साथ इन हजार नेत्रों की दृष्टि यदि शिवभक्ति पर पड़ जाए तो उसकी सभी इच्छाएं पूरी हो जाती है। भय, बाधा, रोग दूर करने और मनोकामना पूरी करने के लिए यहां नारियल बांधा जाता है और बेल पत्र चढ़ाए जाते हैं। रोग और मृत्यु के मुंह से कैसे बचा लेता है महामृत्युंजय मंत्र भगवान शिव को कालों का काल महाकाल कहा जाता है। मृत्यु अगर निकट आ जाए और आप महाकाल के महामृत्युंजय मंत्र का जप करने लगे तो यमराज की भी हिम्मत नहीं होती है कि वह भगवान शिव के भक्त को अपने साथ ले जाए। इस मंत्र की शक्ति से जुड़ी कई कथाएं शास्त्रों और पुराणों में मिलती है जिनमें बताया गया है कि इस मंत्र के जप से गंभीर रुप से बीमार व्यक्ति स्वस्थ हो गए और मृत्यु के मुंह में पहुंच चुके व्यक्ति भी दीर्घायु का आशीर्वाद पा गए। यही कारण है कि ज्योतिषी और पंडित बीमार व्यक्तियों को और ग्रह दोषों से पीड़ित व्यक्तियों को महामृत्युंजय मंत्र जप करवाने की सलाह देते हैं। 
        अब अगर आपके मन में यह सवाल आ रहा है कि यह मंत्र किस तरह काम करता है तो इसका वैज्ञानिक पहलू भी सामने आया है, इसे भी जान लीजिए। विज्ञान की मानें तो ध्वनि और कुछ नहीं विद्युत् का एक रूपान्तरण मात्र है। योगीजन कहते हैं कि विद्युत् ध्वनि अर्थात शब्द स्फोट का रूपांतरण है। अब यह तथ्य सामने आ रहा है कि दोनों का परस्पर रूपांतरण हो सकता है। सेंटर फॉर स्पिरिचुअल एड योगा, चेन्नई के योगी पीआर सहस्रबुद्धे ने अपने शोधकेंद्र में कुछ प्रयोग किए और पाया कि मंत्रों के जप से वाकई फायदा होता है। एक प्रयोग महामृत्युंजय मंत्र को ले कर था। इस बारे में लोगों की उम्मीद रहती है कि मंत्र असाध्य रोगों को ठीक कर देता है। पर योगी सहस्रबुद्धे का मानना है और अनुभव भी कि मंत्र रोगों से मुक्त करा सकता है, पर हमेशा नहीं। वह तभी सहायक होता है, जब उसकी शक्ति को जगाया जाए। प्रयोग के दौरान कुछ बाधाएं आती हैं। इन बाधाओं की वजह पारंपरिक भाषा में आसुरी शक्तियां बताई जाती हैं, जबकि सहस्रबुद्धे के अनुसार मंत्र साधना से अपने चित्त में छाए संस्कार घुलने साफ होने लगते हैं। 
     ये संस्कार चित्त और चेतना में कुछ इस तरह घुले होते हैं, जैसे किसी कमरे में महीनों से गंदगी फैली हो और सफाई के दौरान वह एक साथ बाहर होने लगे तो आसपास कुछ देर के लिए स्थितियां अस्त व्यस्त होने लगे। योगशास्त्र के जानकारों के अनुसार शरीर की आंतरिक रचना मे चौरासी ऐसे केंद्र हैं, जहां प्राण ऊर्जा सघन और विरल रूप में मौजूद रहती है। इन केद्रों को योग की भाषा में उपत्यका कहते हैं। रोग और विक्षोभ इन्ही उपत्यतकाओं से पैदा होते हैं। जप के दौरान महामृत्युजंय मंत्र की ध्वनि इन केंद्रों को सक्रिय करती है। सहस्रबुद्धे के प्रयोगों की भाषा में कहें तो उन केंद्रों पर पहुंच कर ध्वनि विद्युत तरंगों को विचलित करती हैं। रोग का उपचार या मल विकारों का शोधन उन तंरगों से ही होता है। सत्तर प्रतिशत संभावना तो यह रहती है कि रोग ठीक हो जाए। तीस प्रतिशत मामलों में रोग का उभार बढ़ जाता है और रोगी का जीवन खतरे में पड़ जाता है। अर्थात रोग या तो ठीक हो जाता है या रोगी की चेतना शरीर छोड़ जाती है। 
       पंरपरागत भाषा में महामृत्युंजय मंत्र का प्रभाव रोगी को मृत्यु के भय से मुक्त कर देता है। रोग ठीक हो जाए तो भी मृत्यु का भय मिट जाता है और ठीक नहीं हो तो रोगी की जीवनी शक्ति शरीर छोड़ कर चली जाती है। इस तरह भी रोगी मृत्यु के भय से मुक्त हो जाता है। मंत्रयोगी पं.श्यामसुंदर दास के अनुसार परिणाम जो भी हो. महामृत्युंजय मंत्र जीवन चेतना को प्रखर करता है।

rewa-shiv-lingam-is-the-world-most-unique-1001-holes-here-in-दुनिया का सबसे अनोखा 1001 छिद्र वाला शिवलिंग है यहां

महामृत्युञ्जय कवच कैसे करें प्रयोग और उठायें लाभ

क्या हैं महामृत्युञ्जय कवच ..??? 
mahamratyunjay-tantra-kavach-महामृत्युञ्जय कवच कैसे करें प्रयोग और उठायें लाभ        अपने स्वयं तथा परिवार की कुशलता के लिए महामृत्युञ्जय का कवच जरूरी है, और सावन में महामृत्युञ्जय मानो सोने पर सुहागा है, भगवान शिव महामृत्युञ्जय कहलाते हैं, शिव की शक्तियां जितनी अनंत, अपार व विराट हैं, उतना ही सरल है उनका स्वरूप व स्वभाव। इसी वजह से शिव भक्तों के मन में समाया शिव उपासना के आसान उपायों से भी मिलने वाली शिव कृपा का विश्वास ही हर भक्त के लिए सुखों का भंडार खोल देता है। 
      शास्त्रों के मुताबिक सांसारिक जीवन से जुड़ी ऐसी कोई मुराद नहीं जो शिव उपासना से पूरी न हो। विशेष रूप से शास्त्रों में बताए शिव उपासना के विशेष दिनों, तिथि और काल को तो नहीं चूकना चाहिए। इसी कड़ी में यहां बताई जा रही शिव मंत्र स्तुति, शिव पूजा व आरती के बाद बोलने से माना जाता है कि इसके प्रभाव से बुरे वक्त, ग्रहदोष या बुरे सपने जैसी कई परेशानियां दूर होती हैं- 
 दुरूस्वप्नदुरूशकुन दुर्गतिदौर्मनस्य, दुर्भिक्षदुर्व्यसन दुस्सहदुर्यशांसि। 
उत्पाततापविषभीतिमसद्ग्रहार्ति, व्याधीश्चनाशयतुमे जगतातमीशरू॥ 
         इस शिव स्तुति का सरल शब्दो में मतलब है कि- संपूर्ण जगत के स्वामी भगवान शिव मेरे सभी बुरे सपनों, अपशकुन, दुर्गति, मन की बुरी भावनाएं, भूखमरी, बुरी लत, भय, चिंता और संताप, अशांति और उत्पात, ग्रह दोष और सारी बीमारियों से रक्षा करे। 
      धार्मिक मान्यता है कि शिव, अपने भक्त के इन सभी सांसारिक दुरूखों का नाश और सुख की कामनाओं को पूरा करते हैं। भगवान शिव महामृत्युञ्जय कहलाते हैं। शिव का यह रूप काल को पराजित करने या नियंत्रण करने वाले देवता के रूप में पूजित है। महामृत्युञ्जय की आराधना का निरोग होने, मौत को टालने या मृत्यु के समान दुरूखों का अंत करने में बहुत महत्व है। 
      शास्त्रों में महामृत्युञ्जय की उपासनाके लिए महामृत्युञ्जय मंत्र के जप का बहुत महत्व बताया गया है। इस महामृत्युञ्जय मंत्र का जप दैनिक जीवन में कोई भी व्यक्ति कर सकता है। लेकिन खास तौर पर जब कोई व्यक्ति रोग से पीडि़त हो या मानसिक अशांति या भय, बाधाओं से घिरा हो, तब इस मंत्र की साधना पीड़ानाशक मानी गई है। शास्त्रों में इस मंत्र के जप के विधि-विधान का पालन साधारण व्यक्ति के लिए कभी-कभी कठिन हो जाता है। हालांकि किसी योग्य ब्राह्मण से इस मंत्र का जप कराया जाना अधिक सुफल देने वाला होता है। फिर भी अगर किसी विवशता के चलते विधिवत मंत्र जप करना संभव न हो तो यहां बताया जा रहा है महामृत्युञ्जय जप का आसान उपाय। इसका श्रद्धा और आस्था के साथ पालन निश्चित रूप से कष्टों में राहत देगा
- इस मंत्र का जप यथासंभव रोग या कष्ट से पीडि़त व्यक्ति द्वारा करना अधिक फलदायी होता है। 
- ऐसा संभव न हो तो रोगी या पीडि़त व्यक्ति के परिजन इस मंत्र का जप करें।
 - मंत्र जप के लिए जहां तक संभव हो सफेद कपड़े पहने और आसन पर बैठें। मंत्र जप रूद्राक्ष की माला से करें।
 - महामृत्युञ्जय मंत्र जप शुरू करने के पहले यह आसान संकल्प जरूर करें
- मैं (जप करने वाला अपना नाम बोलें) महामृत्युञ्जय मंत्र का जप (स्वयं के लिए या रोगी का नाम) की रोग या पीड़ा मुक्ति या के लिए कर रहा हूं। महामृत्युञ्जय देवता कृपा कर प्रसन्न हो रोग और पीड़ा का पूरी तरह नाश करे।
 - कम से कम एक माला यानि 108 बार इस मंत्र का जप अवश्य करें। 

 ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्।
      मंत्र जप पूरे होने पर क्षमा प्रार्थना और पीड़ा शांति की कामना करें। शास्त्रों के मुताबिक भगवान शिव संहारकर्ता ही नहीं, कल्याण करने वाले देवता भी है। इस तरह शिव का काल और जीवन दोनों पर नियंत्रण है। यही वजह है कि व्यावहारिक जीवन में सुखों की कामनापूर्ति के लिए ही नहीं दुरूखों की घड़ी में शिव का स्मरण किया जाता है। शिव की भक्ति से दुरूख, रोग और मृत्यु के भय से छुटकारा पाने का सबसे प्रभावी उपाय है- महामृत्युंजय मंत्र का जप। 
       धार्मिक मान्यता है कि इस मंत्र जप से न केवल व्यक्तिगत संकट बल्कि पारिवारिक, सामाजिक और राष्ट्रीय आपदाओं और त्रासदी को भी टाला जा सकता है। यहां जानिए इनके अलावा भी कैसे विपरीत हालात या बुरी घड़ियों में भी इस मंत्र का जप जरूर करना चाहिएकृदृ
 - विवाह संबंधों में बाधक नाड़ी दोष या अन्य कोई बाधक योग को दूर करने में। 
- जन्म कुण्डली में ग्रह दोष, ग्रहों की महादशा या अंर्तदशा के बुरे प्रभाव की शांति के लिए। 
- संपत्ति विवाद सुलझाने के लिए। 
- महामारी के प्रकोप से बचने के लिए।
 - किसी लाइलाज गंभीर रोग की पीड़ा से मुक्ति के लिए।
 - देश में अशांति और अलगाव की स्थिति बनी हो। 
- प्रशासनिक परेशानी दूर करने के लिए। 
- वात, पित्त और कफ के दोष से पैदा हुए रोगों की निदान के लिए। 
- परिवार, समाज और करीबी संबंधों में घुले कलह को दूर करने के लिए। 
- मानसिक क्लेश और संताप के कारण धर्म और अध्यात्म से बनी दूरी को खत्म करने के लिए। 
- दुर्घटना या बीमारी से जीवन पर आए संकट से मुक्ति के लिए।
Ads By Google info

वास्तु

हस्त रेखा

ज्योतिष

फिटनेस मंत्र

चालीसा / स्त्रोत

तंत्र मंत्र

निदान

ऐसा भी होता है?

धार्मिक स्थल

 
Copyright © Asha News