ताजा खबरें
Loading...

अनमोल विचार

सर्वाधिक पड़े गए लेख

Subscribe Email

नए लेख आपके ईमेल पर


अशुभ रहेगा सूर्य और राहु का मिलान, 17/9/2015 से 17/10/2015

राहु और सूर्य का मेल रहेगा ( 17/9/2015 से 17/10/2015 तक) , अगले "30 दिन हैं लोगों पर भारी'' 
The-match-will-be-unlucky-Sun-and-Rahu-from-09.17.2015-10.17.2015-अशुभ रहेगा सूर्य और राहु का मिलान,  17/9/2015 से 17/10/2015         राहु ग्रह की नकारत्मक शक्ति इतनी प्रबल है की कोई भी ग्रह राहु के प्रभाव में आते ही शक्ति हीं हो कर अशुभ फल देने लग जाता है गोचर में सूर्य का राहु के छाया प्रभाव में आना ही सूर्य ग्रहण कहलाता है जो की किसी भी जातक की कुंडली में भी हुआ तो ये महीना उसके लिए अशुभ फलकारी होगा । सूर्य का राहु से मिलना ही कलंक लगवा देता है । नौकरी से छुट्टी हो जाती है अफसर से झगड़ा हो जाता है । सरकार से जुरमाना लग जाता है । मुकदद्मे में हार तक का मुह देखना पड़ता है । मान सम्मान में कमी आ जाती है और शत्रु हावी हो जाता है । पिता का कारक होने से पीड़ित सूर्य पिता और पुत्र के बीच मतभेद का कारक बन जाता है । 
        ऐसे इंसान को पिता का सुख न के बराबर मिलता है जिनकी कुंडली में सूर्य और राहु की युति हो या दृष्टि से मेल हो रहा हो , इसी को पितृ दोष कहा जाता है । राहु का गोचर : संवत भर 'कन्या राशि' में रहेगा । सूर्य का गोचर : 17 सितम्बर 2015 से 17 अक्टूबर 2015 तक सूर्य भी राहु के साथ कन्या राशि में ही रहेंगे । कन्या राशि में बहुत खराब योग बना हुआ है ( राहु+सूर्य+बुध ) मिले हुए हैं जो निश्चित ही हर लग्न अनुसार धनहानि और मान हानि का कारण बनेंगे । कन्या / मिथुन / सिंह राशि के लिए विशेष हानिकारक योग है । जिन जातको की कुंडली में राहु के साथ सूर्य या बुध या कोई भी अन्य ग्रह है।विशेष उपाय / दान / मंत्र शक्ति की सहायता लेनी चाहिए ।
Edited by: Editor

कमेंट्स

हिंदी में यहाँ लिखे
Ads By Google info

वास्तु

हस्त रेखा

ज्योतिष

फिटनेस मंत्र

चालीसा / स्त्रोत

तंत्र मंत्र

निदान

ऐसा भी होता है?

धार्मिक स्थल

 
Copyright © Asha News